class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुमला जिले के 150 गांवों में हुई विशेष ग्रामसभा

गुमला जिले के 150 गांवों में हुई विशेष ग्रामसभा

गुमला जिले में ग्राम विकास योजना के तहत 31 अक्तूबर तक होने वाले ग्राम सभा के पहले दिन जिले के 150 गांवों में 19 अक्तूबर को विशेष ग्राम सभा आयोजित की गई। जिला पंचायती राज पदाधिकारी धर्मवीर लकड़ा ने बताया कि जिले के सभी गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया जाना है। इसमें तीन साल के लिए योजना का चयन किया जाएगा। ग्राम सभा के लिए सभी गांवों के लिए पदाधिकारी नियुक्ति किए गए हैं। राज्य से जिला प्रशासन तक के अधिकारी ग्राम सभा की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

20 और 21 अक्तूबर को राज्य सरकार के वरीय अधिकारी गुमला पहुंचकर ग्राम सभा में शामिल होंगे। के विद्यासागर सिसई के मुरगू और रेड़वा तथा भरनों प्रखंड में ग्राम सभा में शामिल होंगे। वहीं मुख्य सचिव राजबाला वर्मा द्वारा 21 अक्तूबर को विशुनपुर प्रखंड के उग्रवाद प्रभावित जोरी में होने वाले ग्राम सभा में शामिल होने की सूचना है। ग्राम सभा में चर्चा के आधार पर योजनाओं की प्राथमिकता सूची तय की जाएगी। 31 अक्तूबर तक जिले के सभी 944 राजस्व ग्राम में ग्राम सभाकी जानी है। गुमला जिले के लिए के विद्यासागर को प्रभारी नियुक्त किया गया है। इधर सदर प्रखंड के 25 राजस्व ग्राम में विशेष ग्राम सभा का आयोजन किया गया। ग्राम सभा में निजी, सार्वजनिक और मनरेगा योजना का चयन आगामी तीन वर्ष के लिए किया गया। बीडीओ उमेश कुमार स्वांसी ने बताया कि पहले दिन सभी पंचायत के एक एक राजस्व गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया। भरनो प्रखंड के करंज गांव में मुखिया इंद्रो देवी की देखरेख में ग्राम सभा हुई। इसमें सर्वसम्मति से करंज गांव में पुलिस पिकेट बनाने, अस्पताल में डॉ.के रहने के लिए कमरा बनाने और जरुरतमंदो को बीपीएल सूची में शामिल कर संपन्न लोगों का नाम सूची से हटाने का प्रस्ताव पारित किया गया। मौके पर दिनेश जायसवाल,राजेश देवघरिया आदि थे।

डुमरी बाजारटांड में ग्राम सभा आयोजित किया गया। इसमें हमारा विकास हमारी योजना के तहत व्यक्तिगत और सामूहिक लाभ का योजना का प्रस्ताव पारित करते हुए योजना पंजी में सूचीबद्ध किया गया। इसमें कल्याणकारी योजनाओं पर जोर दिया गया। मौके पर राजेंद्र जायसवाल, दिलीप बड़ाईक सहित प्रखंड के कई लोग मौजूद थे। कामडारा प्रखंड के उग्रवाद प्रभावित रेड़वा पंचायत के नवाडीह गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया। इसमें ग्रामीणों की ओर से जरूरत के आधार पर पीसीसी पथ, कूप निर्माण, तालाब निर्माण आदि की सूची बनाई गई। साथ ही बेरोजगारों को जोड़ने का निर्णय हुआ। मौके पर विमल केरकेट्टा, रंथु भगत, योगेंद्र उरांव आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Special meeting in 150 Villages of Gumla