class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज रांची में मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने जाएंगे हड़ताली

हड़ताल से शैक्षिणक व्यवस्था लड़खड़ा गई है। आंदोलन के बाद से स्कूलों में लगातार पढ़ाई प्रभावित हो रहा है। एक ओर प्रशासन हड़ताल में गए लोगों को काम पर वापस लौटने का दबाव बना रही है। वहीं दूसरी ओर से आंदोलनकारी अपने मांग पर डटे हैं।

आंदोलनकारियों ने कहा कि हम सरकार की गीदड़ भभकी से डरने वाले नहीं है। मांग पूर्ण होने तक आंदोलन जारी रखने का एलान किया। साथ ही 20 अक्टूबर को मुख्यमंत्री आवास घेराव कार्यक्रम को ऐतिहासिक होने का दावा किया। कहा कि आंदोलनकारी परिवार सदस्यों के संग मुख्यमंत्री आवास पर घेरा डालो डेरा डालो को सफल बनाएंगे।

अल्टीमेटम के बाद होगी कार्रवाई : डीएसई अनिल कुमार चौधरी ने कहा कि शैक्षणिक काम बाधित करने का हक किसी को नहीं है। बर्खास्तगी के अल्मीटेम पर कस्तूरबा के सभी कर्मी काम पर वापस हो गए हैं। अब 21 अक्टूबर को बीआरपी-सीआरपी का अल्टीमेटम समाप्त हो रहा है। हड़ताली काम पर नहीं लौटते हैं तो आगे बर्खास्तगी की प्रक्रिया शुरु की जाएगी।

हड़तालियों का बिखरने लगा कुनबा : सरकार की सख्ती के बाद हड़तालियों का कुनबा बिखरने लगा। कस्तूरबा कर्मियों के काम पर लौटने के बाद रामगढ़-2 के 11 पारा शिक्षक भी काम में लग गए। यह जानकारी रामगढ़-2 बीइइओ लाल बहादुर सिंह ने दिया। उन्होंने जल्द सभी हड़तालियों का काम पर लौटने का दावा किया। कहा कि प्रशासन शैक्षणिक काम में बाधा उत्पन्न करने वाले को हल्के में नहीं लेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ramgarh, Ranchi today to lay siege to the chief minister's residence will be striking