class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिमडेगा में 72 हजार 867 हेक्टयर भूमि में हुई दलहन और तेलहन की फसल

सिमडेगा जिले में इस वर्ष 72 हजार 867 हेक्टेयर भूमि में दलहन और तेलहन की फसल उगाई गई है, जिनमें 53 हजार 281 हेक्टेयर भूमि में दलहन और 12 हजार 623 हेक्टेयर भूमि में तेलहन की खती की गई है। जानकारी देते डीएओ डॉ अनिमानंद टोप्पो ने बताया कि जिले के सभी प्रखंडों में 44200 हेक्टेयर भूमि में दलहन और 6270 हेक्टेयर भूमि में तेलहन की फसल का अच्छादन करने का लक्ष्य दिया गया था।

लक्ष्य के अनुरूप 22 हजार 397 हेक्टेयर अधिक जमीन में दलहन और तेलहन की फसल उगाई गई है। उन्होंने बताया कि दलहन फसल में से उरद 27825, अरहर 17322, मूंग 1531, कुलथी 4545 हेक्टेयर भूमि में आच्छादन किया गया है। इसी तरह तेलहन को देखा जाय तो मूंगफली 4800, तिल 2055, सुरगुजा 4597, अण्डी 100, सोयाबीन 300 हेक्टेयर जमीन में उगाई गई है। वहीं अन्य फसलों में महुआ 6807, ज्यार 86 और बाजरा 70 हेक्टेयर भूमि में लगाया गया है।

सबसे ज्यादा ठेठईटांगर के किसानों ने 6439 हेक्टेयर भूमि में उगाया दलहन

प्रखंडवार दलहन फसल की बात की जाय तो सिमडेगा में 6429, कोलेबिरा में 5874, कुरडेग में 5369, बानो 6080, ठेठईटांगर 6439, जलडेगा 5581, बोलबा 4957, केरसई में 4330, बांसजोर में 4092 और कोलेबिरा में 4130 हेक्टेयर भूमि में की गई। इसी तरह तेलहन सिमडेगा में 1333, कोलेबिरा में 1335, कुरडेग में 1341, बानो 1289, ठेठईटांगर 1496, जलडेगा 1393, बोलबा 1171, केरसई में 1200, बांसजोर में 1098 और कोलेबिरा में 967 हेक्टेयर भूमि में खेती की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pulses crops plough 72 thousand hectre in simdega