class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएनटी-एसपीटी कानून में संशोधन के खिलाफ आज झारखंड बंद

सीएनटी-एसपीटी कानून में संशोधन के खिलाफ आज झारखंड बंद

सीएनटी-एसपीटी कानून में संशोधन के खिलाफ शुक्रवार को आदिवासी संगठनों ने झारखंड बंद बुलाया है। प्रस्तावित बंद को लेकर पूरे राज्य में पुलिस प्रशासन को सतर्क कर दिया गया है। उत्पातियों से निपटने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स की दो और रैपिड एक्शन पुलिस की तीन कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके अलावा दस हजार अतिरिक्त सुरक्षा बल, जिसमें चार हजार जिला बल और चार हजार होमगार्ड के जवान शामिल हैं, की भी तैनाती की गई है। उत्पात मचानेवालों को तुरंत गिरफ्तार करने के आदेश दिए गए हैं। इधर, बंद के मद्देनजर रांची के सभी निजी स्कूलों ने शुक्रवार को अवकाश घोषित कर दिया है।

विशेष सतर्कता

25 नवंबर को विपक्षी दलों की ओर से बुलाए झारखंड बंद के दौरान हुए उपद्रव के मद्देनजर रांची में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। पुलिस मुख्यालय, विशेष शाखा, सीआईडी में काम करनेवाले सभी पुलिसकर्मियों को रांची जिला बल में प्रतिनियुक्त कर दिया गया है। झारखंड के सभी जिला मुख्यालय में दंगा निरोधक दस्ते भी तैनात किये गये हैं। सभी इलाकों में विडियोग्राफी और ड्रोन से उत्पातियों पर नजर रखी जाएगी। रांची, खूंटी, जमशेदपुर, दुमका और साहिबगंज में सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं। इनमें से दो जिलों में रैफ और तीन जिलों को आरएपी के जवान तैनात किये गए हैं। पूरे राज्य में धारा 144 लागू रहेगी।

क्या कहते हैं पुलिस प्रवक्ता

पुलिस प्रवक्ता आईजी एमएस भाटिया के मुताबिक सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं। सभी एसपी और डीसी को उत्पातियों से निपटने के निर्देश दिए गए हैं।

आदिवासी छात्रवासों पर विशेष नजर

राज्य भर के आदिवासी छात्रावासों पर पुलिस की नजर है। पुलिस ने छात्रावास में रहनेवाले छात्रों की सूची तैयार कराई है। वैसे नेताओं की सूची तैयार की गई है,जो बंद कराने उतरेंगे। अगर, कहीं तोड़फोड़ हुई, तो क्षतिपूर्ति के लिए बंद बुलानेवाले संगठन के नेताओं को नोटिस जारी किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jharkhand band call on 2 december