Image Loading I give a sense of God realization possible: Krishna Acharya - LiveHindustan.com
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 10:00 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

मैं का भाव छोड़ने पर ईश्वर प्राप्ति संभव: आचार्य श्रीकृष्ण

रांची। संवाददाता First Published:01-12-2016 11:46:40 PMLast Updated:01-12-2016 11:55:12 PM

अरसंडे श्री दुर्गा मंदिर परिसर में श्रीमद्भागवत कथा का दूसरा दिनरांची। कथावाचक आचार्य श्रीकृष्ण ने कहा कि मैं का भाव छोड़ने पर ही मनुष्य ईश्वर प्राप्ति कर सकता है। जब तक मैं का भाव साथ रहेगा तब तक प्रभु का अनुभव नहीं हो सकता है।

आचार्य श्रीकृष्ण गुरुवार को कांके ब्लॉक चौक अरसंडे स्थित श्री दुर्गा मंदिर परिसर में प्रवचन कर रहे थे। महिला सत्संग की ओर से आयोजित संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के दूसरे दिन उन्होंने मैं था हरि नहीं भजन से उक्त बातों को स्पष्ट किया। उन्होंने कहा कि जीवन में सफलता के लिए अनुशासन जरूरी है। आत्मा अविनाशी है। आत्मा न तो जन्म लेती है और न ही इसका नाश होता है। शरणागति करने वाले की परमपिता सदा रक्षा करते हैं। कथा के दूसरे दिन आचार्य ने नारद-रति कपिल संवाद, चौबीस अवतार विराट वर्णन एवं सुकदेव आगमन आदि प्रसंग पर प्रवचन दिया। सम्पूर्ण पांडित्य का गोमुख वशिष्ठ जी हैं। श्रीराम-कृष्ण की स्तुति हमारे जीवन को शृंगारित कर देती है। कुंती स्तुति पर उन्होंने कहा कि उपदेश जब समझ में आएगा जब जिज्ञासु होकर बैठेंगे और कथा श्रवण करेंगे। उन्होंने कहा कि भगवत प्राप्ति की व्याकुलता अगर जीवन में आ गई है तो यह जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है। मनुष्य को स्वयं पर और अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण रख कर द्वंदों से ऊपर उठ कर स्वकर्तव्य को पूरा करना चाहिए। यही मनुष्य का सच्चा कर्म है। सच्चा कर्म जब होता है तो वही भक्ति में परिवर्तित हो जाता है

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: I give a sense of God realization possible: Krishna Acharya
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड