Image Loading Appeal circulated to people for complete cleanliness and no open toilet - LiveHindustan.com
मंगलवार, 27 सितम्बर, 2016 | 10:49 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 78.74 अंको की तेजी के साथ 28,373 और निफ्टी...
  • US Election Debate: ट्रंप की योजनाएं अमेरिका की अर्थव्यव्स्था के लिए ठीक नहीं, हमें सब के...
  • हावड़ा से दिल्ली की ओर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतरी, सुबह की घटना, अभी रेल यातायात...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

संपूर्ण स्वच्छता अपनाने और पलामू को खुला शौचमुक्त बनाने की अपील

मेदिनीनगर (पलामू)। प्रतिनिधि First Published:23-09-2016 05:16:00 PMLast Updated:23-09-2016 05:20:23 PM

जिला जल व स्वच्छता समिति पलामू के तत्वावधान में शुक्रवार 23 सितंबर को स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण के तहत समुदाय संचालित संपूर्ण स्वच्छता विषय पर पांच दिनी कार्यशाला अग्रसेन भवन में प्रारंभ हुआ। इस पांच दिनी प्रशिक्षण में पांच प्रखंड सतबरवा, पड़वा, मनातू, नावाबाजाद, पिपरा के अलावा अन्य प्रखंडों के नैचुरल लीडर, साक्षरता प्रेरक, जलसहिया और प्रखंड समन्वयक भाग ले रहे हैं।

इस कार्यशाला का उद्घाटन डीसी अमित कुमार ने किया। इस मौके पर डीसी ने संपूर्ण स्वच्छता विधि का प्रयोग कर जिले को खुले में शौच मुक्त बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आज भी इस जिले में करीब 2,50,000 से अधिक परिवार खुले में शौच करते हैं। यदि सभी व्यक्ति खुले में शौच करना छोड़ना चाहते हैं तो अपने घर में अपने प्रेरणा से शौचलाय बनायें। उन्होंने कहा कि खुले में शौच करने के कारण किसी ने किसी माध्यम से एक दूसरे का मल खा रहे हैं। इस प्रथा के कारण प्रत्येक ग्राम में एक बच्चे की मृत्यु प्रतिवर्ष डायरिया के कारण हो रहे हैं। वर्तमान समय में जिले के कुछ गांव डायरिया से ग्रस्त हैं। खुले में शौच नहीं किया जाए तो डायरिया को समाप्त किया जा सकता है। पाषण काल में लोग अशिक्षित होने के कारण जानवर और आदमी दोनों खुले में शौच करते थे। अब हमलोग सभ्य और शिक्षित हो गए हैं। इस कारण समुदाय के साथ मिलकर संपूर्ण स्वच्छता को अपनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि एक शौचालय बनाने में चार से पांच दिन लगते हैं। यदि जिले के सभी परिवार एक साथ शौचालय निर्माण का कार्य करें तो 10 दिनों में संपूर्ण जिला खुले में शौचमुक्त किया जा सकता है। कार्यपालक अभियंता अजय कुमार सिंह ने कहा पांच दिनों तक सभी यहां पर ट्रेनिंग लेकर पंचायत और गांवों में समूह बनाकर लोगों में जागरुकता लाएंगे। पांच दिनों तक डब्लूएसपी के राज्य स्तरीय टीम के सदस्य रघु कुमार, सीताराम और श्वेता त्रयंबक ट्रेनिंग देंगे। इस मौके पर जिला समन्वयक अश्विनी कुमार पांडेय, कृष्ण कुमार गुप्ता, अवधेश कुमार सिंह, अनुज कुमार श्रीवास्तव आदि ने अपने-अपने विचारों को रखा।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Appeal circulated to people for complete cleanliness and no open toilet
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड