Image Loading Alarming increase in heart disease among youth - LiveHindustan.com
सोमवार, 26 सितम्बर, 2016 | 00:36 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गुड इवनिंग: देश-दुनिया की पांच बड़ी खबरें एक नजर में, पढ़ें पूरी खबर
  • मध्यप्रदेश के गुना में 7 बच्चों की डूबकर मौत, पिपरोदा खुर्द में नहाने के दौरान...
  • KANPUR TEST: चौथे दिन का खेल खत्म, न्यूजीलैंड: 93/4
  • KANPUR TEST: अश्विन के 200 विकेट पूरे, न्यूजीलैंड: 55/4
  • कोझिकोड में पीएम मोदी ने कहा, लोगों के कल्याण के लिए खुद को खपा देंगे
  • KANPUR TEST: अश्विन ने कीवी ओपनर्स को लौटाया पैवेलियन, न्यूजीलैंड: 3/2

युवाओं में हृदय रोग बढ़ना चिंताजनक

रांची। संवाददाता First Published:23-09-2016 10:29:00 PMLast Updated:23-09-2016 10:32:27 PM
युवाओं में हृदय रोग बढ़ना चिंताजनक

देशभर में बढ़ रहे हृदय रोगियों की संख्या चिंता का सबब है। इसे देखते हुए इंडियन एसोसिएशन ऑफ क्लिनिकल कार्डियोलॉजिस्ट ने शुक्रवार को सातवें नेशनल कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। यह रांची के कैपिटोल हिल होटल में शुरू हुआ। इस अवसर पर बतौर मुख्य वक्ता डॉ जी विजयराघवन ने कहा कि भारत में हर साल हृदय रोगियों की संख्या बढ़ रही है। यह सब पश्चिमी देशों के खान-पान अपनाने से बढ़ रहा है।

आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में जहां लोग 50 साल की उम्र में हृदय रोग के शिकार होते हैं, वहीं भारत में 40 साल से भी कम उम्र में लोग शिकार हो रहे हैं। यह भयावह आंकड़ा है। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में युवाओं में भी हृदय रोगियों की संख्या बढ़ने लगी है। उपाय के लिए हर दिन सुबह टहलना चाहिए। फास्ट फूड कतई ना खाएं। राष्ट्रीय स्तर का यह आयोजन पहली बार रांची में हो रहा है। दिल की धड़कन अनियमित होने पर तुरंत जाएं अस्पताल

डॉ राजेश राजन ने ह्दय की गति नॉर्मल नहीं होने पर इलाज कैसे किया जाए, इसके बारे में चर्चा की। उन्होंने कहा कि कभी तेज तो कभी बहुत तेज धड़कन हो जाती है। इस स्थिति में तुरंत अस्पताल जाना चाहिए। घर बैठे इसका इलाज घातक हो सकता है। यह भी संभव है कि मरीज को दवाई जिंदगी भर खाना पड़े।

बिना डॉक्टर की सलाह के ना लें गैस की दवाई

डॉ वीके जगगानी ने कहा कि रोगियों को यह समझना होगा कि केवल डॉक्टर के पास जाने से इलाज नहीं हो जाता। इसके लिए नियमित इलाज और दवाई की जरूरत होती है। लोग खान-पान अनियमित रखते हैं। गैस बनते ही दुकान पर पहुंच जाते हैं दवाई लेने। इससे अक्सर साइड इफेक्ट होता है। बिना सलाह के गैस की दवाई को बिल्कुल नहीं लेनी चाहिए। चाय कॉफी लेने में सावधानी बरतनी चाहिए।

आज के मुख्य वक्ता

कार्यक्रम के दूसरे दिन भी कई डॉक्टर अपनी बात रखेंगे। इसमें डॉ भाष्कर साह, डॉ ललित कपूर, डॉ दीपक चांगलानी, डॉ उल्लाह पांडुरंगी, डॉ एस अंबराडेकर शनिवार के मुख्य वक्ता हैं। मौके पर अन्य डॉक्टर भी मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम का समापन रविवार को होगा।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Alarming increase in heart disease among youth
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड