class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड की 80 हजार छात्राओं का पढ़ाई बाधित

झारखंड की लगभग 80 हजार छात्राओं की पढ़ाई पिछले सात दिनों से बाधित है। 203 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय और 57 झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय के लगभग 1200 से अधिक शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं।

राजभवन के समीप सैंकड़ों शिक्षक डटे हैं। इसमें 100 शिक्षिकाएं आमरण अनशन पर हैं। इनकी तबियत बिगड़ती जा रही है। सातवें दिन भी इनका अनशन जारी रहा। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय कर्मी संघ की अध्यक्ष रोहिणी प्रसाद ने बताया कि जब तक मांगे पूरी नहीं हो जाती, तब तक हड़ताल जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि इस मसले पर राज्यपाल से भी मुलाकात की जाएगी। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में लगभग 75 हजार और झारखंड बालिका आवासीय विद्यालयों में 5700 छात्राएं अध्ययनरत हैं।

झामुमो विधायक ने दिया समर्थन

बुधवार को झामुमो विधायक पौलुस सुरीन ने धरना स्थल पर जाकर शिक्षकों और कर्मचारियों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि शिक्षकों और कर्मचारियों की मांग जायज है। सरकार को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।

क्या है संघ की मांगें

सभी कर्मियों की समायोजन और नियमित करनाछठे वेतनमान के समान वेतन में वृद्धिइपीएफ और ग्रुप बीमा का लाभसभी सरकारी अवकाश लागू करना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:80 thousand students in the state of interrupted studies