Image Loading Tax fill, rest assured - LiveHindustan.com
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 03:48 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • भारतीय टीम में गौतम गंभीर की वापसी, कोलकाता टेस्ट के लिए टीम में शामिल
  • इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मलेन में भाग नहीं लेंगे पीएम मोदी: MEA
  • पंजाब-हिमाचल सीमा पर संदिग्ध की तलाश, पठानकोट में संदिग्ध की तलाश जारी, पुलिस ने...
  • पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को विदेश मंत्रालय ने किया तलब, उरी हमले के...
  • CBI ने सुप्रीम कोर्ट से बुलंदशहर गैंगरेप केस में कथित बयान को लेकर यूपी के मंत्री...
  • दिल्लीः कॉरपोरेट मंत्रालय के पूर्व डीजी बी के बंसल ने बेटे के साथ की खुदकुशी,...
  • मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 78.74 अंको की तेजी के साथ 28,373 और निफ्टी...
  • US Election Debate: ट्रंप की योजनाएं अमेरिका की अर्थव्यव्स्था के लिए ठीक नहीं, हमें सब के...
  • हावड़ा से दिल्ली की ओर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतरी, सुबह की घटना, अभी रेल यातायात...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

टैक्स भरें, निश्चिंत रहें, टैक्स से होगा देश का विकास

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरो First Published:23-09-2016 09:35:00 PMLast Updated:23-09-2016 09:40:16 PM

आयकर अधिकारियों ने सलाह दी कि टैक्स भरें और निश्चिंत रहें। टैक्स से ही विकास का काम होता है और काला धन को छिपाना अपराध है। आयकर अधिकारी शुक्रवार को रांची में आईएमए हॉल में डॉक्टरों के साथ बैठक कर रहे थे। उन्होंने डॉक्टरों को इंकम डिस्कोजर स्कीम (आईडीसी) से अवगत कराया।

प्रधान आयकर आयुक्त तपस दत्ता, संयुक्त आयकर आयुक्त अरविंद कुमार, आयकर उपायुक्त रंजीत मधुकर और आयकर अधिकारी बीएसके बाहा डॉक्टरों से मुखातिब हुए। बैठक में लगभग 50-60 डॉक्टर शामिल हुए। दत्ता और कुमार ने डॉक्टरों से कहा कि 30 सितंबर तक अघोषित संपत्ति घोषित करने का आखिरी मौका है। लिहाजा इसे गंभीरता से लें। विभाग के पास कई जानकारी हैं और इसके बाद कार्रवाई शुरू की जाएगी। मधुकर ने आईडीसी के बारे डॉक्टरों को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में स्कीम के बारे में चर्चा की है। इसी राशि से देश का विकास होगा। लोगों का नाम उजागर नहीं किया जाएगा। उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई भी नहीं की जाएगी। स्रोत के बारे में भी नहीं पूछा जाएगा। वह अघोषित संपत्ति का 45 फीसदी टैक्स दे कर बच सकते हैं। स्कीम के बारे में लोगों के मन में जो भ्रांतियां थीं, उन्हें दूर की गयी।

स्कीम के तहत अब तक करोड़ों का मिला राजस्व

आयकर विभाग को आईडीसी स्कीम के तहत अब तक केवल रांची से करोड़ो रुपये का राजस्व मिला है। हालांकि विभागीय अधिकारी फिलहाल इस बारे में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं, लेकिन सूत्रों की मानें तो विभाग को स्कीम के तहत भारी सफलता मिली है। काफी बड़ी संख्या में अघोषित संपत्ति घोषित करने के लिए लोग सामने आए हैं।

किस्तों में दे सकते टैक्सः

स्कीम के तहत 30 सितंबर 2016 तक अघोषित संपत्ति की घोषणा करने का समय दिया गया है। जबकि इस पर बनने वाले टैक्स की आदयगी के लिए 30 नवंबर 2017 तक का समय मिलेगा। साथ ही किस्तों में भी टैक्स की अदायगी की जा सकती है।

कैसे कर सकते हैं घोषितः

विभाग द्वारा अघोषित संपत्ति की घोषणा के लिए एक फॉर्म निकाला गया है। जिसे कोई भी भर सकता है। अगर किसी व्यक्ति के पास नगद राशि है, तो उसे पहले बैंक में जमा करना होगा। फिर आयकर विभाग के पास फॉर्म भरना होगा। फिर उसी खाते से टैक्स की राशि चलान के जरिए सरकारी खाते में जमा कराना होगा। विभाग द्वारा इसके बाद संपत्ति घोषित करने और टैक्स अदा करने संबंधित एक्नोलेजमेंट दिया जाएगा। अगर किसी व्यक्ति ने जमीन, जेवर, शेयर या अन्य किसी तरह का निवेश कर लिया है, तो 1 जून 2016 के बाजार मूल्य के आधार पर गणना कर टैक्स की अदायगी करनी होगी।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Tax fill, rest assured
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड