class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दलों को आरटीआई दायरे में लाया जाए : गोविंदाचार्य

राष्ट्रवादी चिंतक व विचारक केएन गोविंदाचार्य ने कहा कि देश में राजनीतिक दलों पर भी सूचना का अधिकार अधिनियम(आरटीआई) लागू होना चाहिए। देश में लोकपाल कानून को सख्ती से लागू किया जाए। चुनाव में चिह्नों के स्थान पर प्रत्याशियों की तस्वीर लगाई जाए।

गोविंदाचार्य ने कहा कि अगर देश में सभी क्षेत्रों में आरटीआई कानून लागू है तो फिर राजनीतिक दल इससे कैसे बचे रह सकते हैं। देश में पारदर्शिता लाने के लिए राजनीतिक दलों पर यह कानून सख्ती से लागू होना चाहिए। साथ ही सांसद व विधायक कोष को या तो खत्म कर देना चाहिए या फिर इस कोष के प्रति सांसद व विधायक को जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।

गोविन्दाचार्य शनिवार से 10 दिवसीय चम्पारण यात्रा पर निकल रहे हैं। इस यात्रा के दौरान वे उन स्थानों पर जाएंगे, जहां गांधी जी ने यात्रा की थी। इससे पूर्व शुक्रवार को पाटलिपुत्र स्थित अन्नापूर्णा भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि देश आज सामाजिक, राजनीतिक व आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा है। आज भी चम्पारण में किसान आत्महत्या कर रहे हैं। आजादी के बाद भी यदि चम्पारण के किसानों की दशा नहीं सुधरी और वहां कृषि लाभकारी नहीं बन सकी तो चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी मनाना बेमानी है। एक सवाल के जवाब में गोविन्दाचार्य ने सक्रिय राजनीति में लौटने से इनकार किया। उन्होंने कहा कि गंगा को अविरल बनाने के लिए नदी से गाद निकालने के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पूर्व में ही प्रयास शुरू करना चाहिए था। गंगा के साथ-साथ उसकी सहायक नदियां सोन, गंडक, पुनपुन, सरयू में यह काम शुरू करना चाहिए। इस अवसर पर सांसद रवीन्द्र किशोर सिन्हा भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: political party Come to the RTI : govindachary