class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के इस स्टेशन पर रुकती है ट्रेन तो अटक जाती है यात्रियों की सांसें

बिहार के इस स्टेशन पर रुकती है ट्रेन तो अटक जाती है यात्रियों की सांसें

बिहार के माेकामा के हाथीदह स्टेशन पर बरौनी बेगूसराय की तरफ जाने वाली ट्रेनों के यात्रियों की सांसें उस वक्त अटक जाती है, जब ट्रेन की अंतिम चार पांच बोगियां स्टेशन के रेलवे ओवर ब्रिज पर रुक जाती हैं। ऊपरी रेल ट्रैक पर जहां ट्रेनों की अंतिम पांच छह बोगियां रहती हैं वहां न तो कोई प्लेटफार्म है न ही रेल लाइन के दोनों तरफ कोई सुरक्षात्मक बैरिकेडिंग ही है। हाथीदह के ऊपरी रेल ट्रैक से बेगूसराय और बरौनी की ओर ट्रेनें जाती हैं। रेलवे ओवरब्रिज के नीचे हावड़ा नई दिल्ली मेन लाइन का रेलवे ट्रैक रहता है। आमतौर पर किसी स्टेशन पर रुकने वाली ट्रेन यात्रियों को उतारती हैं। मंजिल की तरफ बढ़ जाती हैं, लेकिन हाथीदह स्टेशन पर ऐसा नहीं होता है। 

लंबी रैक वाली ट्रेन जब भी हाथीदह अपर स्टेशन पर रुकती है तो पहले ट्रेन की आगे की बोगियों के यात्री ही उतर पाते हैं और जब ट्रेन की अगली बोगियों के यात्री उतर जाते हैं तो इस दौरान ट्रेन की अंतिम छह से सात बोगियां हाथीदह अपर स्टेशन के रेलवे ओवरब्रिज वाले लाइन पर रुकी होती है। इस दौरान उतरने पर जान जाने का खतरा रहता है, क्योंकि रेलवे ओवरब्रिज के पास न तो कोई प्लेटफॉर्म है और न ही वहां पर बैरिकेडिंग की गई है। गार्ड चिल्लाकर यात्रियों को उतरने से मना करते हैं। रेलकर्मियों और स्थानीय लोगों की मानें तो कई बार हादसे भी हुए हैं लेकिन दशकों से यही समस्या है। 

लोगों ने कहा कि प्लेटफॉर्म बनाएं या बैरिकेडिंग करें
मरांची निवासी पवन कुमार ने कहा कि हाथीदह स्टेशन के रेलवे लाइन से सटे दोनों तरफ प्लेटफार्म बनाया जाना चाहिए उसकी घेराबंदी होनी चाहिए। पवन कुमार ने बताया कि बीते सात आठ वर्षों में कई बार रेल अधिकारियों को इस समस्या के बारे में बताया गया लेकिन स्थिति जस की तस बनी है। वहीं हाथीदह के स्टेशन मास्टर बाबू लाल हेम्ब्रम ने कहा कि हाल ही में निरीक्षण के लिए आए सांसद और डीआरएम को इस बाबत ज्ञापन सौंपा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:passengers afraid when train stop at this station in bihar