class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छपरा में ग्रामीणों ने उग्र प्रदर्शन कर स्कूल में की तालाबंदी

इसुआपुर।

नवसृजित प्राथमिक विद्यालय बंगरा में बदइंतजामी से नाराज ग्रामीणों ने स्कूल में तालाबंदी कर उग्र प्रदर्शन किया। आक्रोशित लोगों का आरोप था कि पिछले 15 दिनों से स्कूल का ताला खुलता तो है लेकिन एक भी शिक्षक पढ़ाने नहीं आते हैं । केवल रसोइया आती हैं और साफ-सफाई कर चली जाती हैं। शिक्षकों की मनमानी और लापरवाही के कारण ही गांव के बच्चे निजी और गांव से दूर सरकारी स्कूलों में पढ़ने को मजबूर हैं। ग्रामीण योगेश्वर सिंह, विजय सिंह, अनिल सिंह, सुदीश सिंह, सरोज साह ,ताराचन्द कुशवाहा, राजेन्द्र सिंह, भीम कुमार, अनिल सिंह व अन्य का कहना था कि गांव में स्कूल खुलने का कोई मतलब ही नहीं है। दो दिन पूर्व इसी गांव के जिस 10 बर्षीय स्कूली छात्र संजीव कुमार सिंह का अपहरण कर हत्या कर दी गई है, उसके जिम्मेवार भी स्कूल के शिक्षक ही हैं । उसकी साइकिल व स्कूल बैग इसी स्कूल के कैंपस में मिली थी। अगर स्कूल खुला रहता तो उसका अपहरण नहीं होता। स्कूल मे एमडीएम भी नहीं बनता है। तीन रसोइयों में एक रसोइया कौन है किसी को पता नहीं है। इस बावत हेडमास्टर रमेश कुमार राम का कहना है कि वे अपनी लड़की की शादी में व्यस्त हैं जिसके कारण कुछ दिनों से स्कूल नहीं जा जा रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Villagers lock the lock in school
From around the web