Image Loading Special diabetes hospital have no diabetes drug - Hindustan
रविवार, 26 मार्च, 2017 | 01:08 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपके लिए 26 मार्च का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अबतक की 10 बड़ी खबरें
  • करीना से अपने रिश्ते पर पहली बार बोले शाहिद, 'सबसे बड़ा राज...', यहां पढ़ें बॉलीवुड...
  • हिन्दुस्तान जॉब : 12वीं पास के बच्चों को नौकरी देगा एचसीएल, क्लिक कर पढ़े
  • सीएम बनने के बाद पहली बार गोरखपुर पहुंचे योगी, हुआ भव्य स्वागत, पढ़ें राज्यों से...
  • यूपी सीएम ने कहा, कैलाश मानसरोवर यात्रियों को एक लाख का अनुदान देंगे, पूरी खबर...
  • इलाहाबाद: कौशाम्बी के पिपरी इलाके में छेड़खानी से दुखी बीए की छात्रा ने...
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 1 लाख रुपये सरकार देगी: सीएम योगी आदित्यनाथ
  • सीएम योगी आदित्य नाथ ने कहा- केंद्र की तरह यूपी में भी विकास को आगे बढ़ाना है
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े अबतक की देश-विदेश और मनोरंजन की बड़ी खबरें
  • गैजेट-ऑटो अपडेट: पढ़ें अभीतक की 8 बड़ी खबरें
  • जेटली मानहानि मामला: पटियाला हाउस कोर्ट में सीएम अरविंद केजरीवाल और अन्य आप...
  • अभिनेता रजनीकांत ने तमिल समर्थक संगठनों के विरोध के मद्देनजर अपनी श्रीलंका...
  • स्पोर्ट्स अपडेटः 'चाइनामैन' कुलदीप के बारे में Interesting facts. पढ़ें, क्रिकेट की अभी तक...
  • बिहार में बदला मौसम का मिजाज, उत्तर बिहार में आंधी-तूफान, बारिश और ओला वृष्टि से...

मधुमेह के विशेष अस्पताल में मधुमेह की ही दवा नहीं

पटना। कार्यालय संवाददाता First Published:19-10-2016 06:22:43 PMLast Updated:19-10-2016 06:30:18 PM

सूबे में मधुमेह के विशेष अस्पताल न्यू गार्डिनर रोड में मधुमेह की दवा उपलब्ध नहीं है, जिससे मरीजों को बाहर से दवा खरीदनी पड़ रही है। दरअसल, पटना के इनकम टैक्स चौराहा स्थित न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल को मधुमेह के विशेष अस्पताल के रूप में विकसित किया गया है, लेकिन स्थास्थ्य विभाग की ओर दवाएं उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। यही नहीं राज्य के 22 जिलों में स्थापित 46 डायबिटीज सेंटर में दवा नहीं उपलब्ध होने की वजह से मरीज परेशान हैं।

तेजी से बढ़ रही है बीमारी

सूबे में शहरी क्षेत्र में मधुमेह की बीमारी तेजी से बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं। राज्य में मधुमेह पीड़ितों की संख्या नौ लाख है। 14 प्रतिशत रोग शहरी क्षेत्र में है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों11 प्रतिशत मधुमेह के रोगी हैं। 40 से 60 वर्ष उम्र के लोग इस बीमारी से ज्यादा ग्रसित हैं। मधुमेह के इलाज के लिए सात प्रकार की दवाएं प्रचलित हैं। 2012 में दवा खरीद के लिए राज्य स्वास्थ्य समिति में प्रस्ताव लाया गया, लेकिन मरीजों को आजीवन दवा खानी पड़ेगी इस बात पर डॉक्टरों में सहमति नहीं बनी। ऐसे में अस्पताल में मरीजों को दवा उपलब्ध कराना एक चुनौती हो जाएगा।

मधुमेह की दवा जरूरी दवाओं की सूची में नहीं

बाजार में मधुमेह की दवाएं बहुत महंगी नहीं है। सरकारी स्तर पर खरीद होने पर और सस्ती हो सकती हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का यह भी कहना है कि मधुमेह की दवा जरूरी दवाओं की सूची में शामिल नहीं है, इसलिए इसकी खरीददारी बीएमएसआईसीएल द्वारा नहीं की जा रही है। अमूमन एक दवा की कीमत पांच से 60 रुपए है। डायबिटिक टेस्ट सेंटर में मरीजों की जांच, परामर्श और बीमारी से बचाव के लिए सामग्री तो दी जाती है, लेकिन दवा की व्यवस्था नहीं है।

जिले जहां स्थापित हैं, डायबिटिक सेंटर

रोहतास, कैमूर, भोजपुर, पटना, नालंदा, गया, नवादा, मुंगेर, भागलपुर, बांका, मुजफ्फरपुर, वैशाली, समस्तीपुर, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, पूर्णिया, कटिहार, अररिया, गोपालगंज और शिवहर शामिल है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Special diabetes hospital have no diabetes drug
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड