Image Loading Medha Patekar says, liquor prohibition succesful in Bihar due to political will power - Hindustan
सोमवार, 24 अप्रैल, 2017 | 14:59 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: 'अकबर' का गुस्सा, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर पर बोले, केस कर दूं, मगर...यहां...
  • टॉप 10 न्यूज़: विडियो में देखें देश और दुनिया की अभी तक की बड़ी खबरें
  • बाल-बाल बचे दिल्ली-कोलकाता एयर इंडिया विमान के यात्री, कोलकाता एयरपोर्ट पर...
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलीं जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती,...
  • स्पोर्ट्स स्टार: RCB कप्तान विराट ने मैच के बाद कहा, 'ये इतना बुरा था कि अभी..' यहां...
  • बॉलीवुड मसालाः बाहुबली-2 का पहला गाना आया और इंटरनेट पर मच गया धमाल, इसके अलावा...
  • टॉप 10 न्यूज: सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्स: गर्मियों में रोजाना पीयें मट्ठा, कैलोरी व फैट रखेगा नियंत्रित
  • ओपिनियनः पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का लेख- स्टार्ट-अप में उतार-चढ़ाव का दौर
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना और रांची में आज रहेगी गर्मी। देहरादून में...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः वृष राशि वालों को माता-पिता का सानिध्य एवं सहयोग मिलेगा। नौकरी में...
  • सक्सेस मंत्र: खुद पर विश्वास रखेंगे तो जरूर आगे बढ़ेंगे
  • टॉप 10 न्यूज: देश-दुनिया की खबरें पढ़ें एक नजर में
  • KKRvRCB: कोलकाता ने बैंगलोर को 82 रन से हराया

राजनीतिक इच्छाशक्ति से बिहार में शराबबंदी सफल : मेधा पाटकर

पटना। कार्यालय संवाददाता First Published:02-12-2016 04:11:49 PMLast Updated:02-12-2016 04:22:22 PM
राजनीतिक इच्छाशक्ति से बिहार में शराबबंदी सफल : मेधा पाटकर

राजनीतिक इच्छाशक्ति से ही बिहार में शराबबंदी सफल है। बिहार सरकार ने पूरी दृढ़ता दिखाते हुए शराबबंदी लागू किया है। यह एक अच्छा कदम है। शुक्रवार को जनआंदोलनों के राष्ट्रीय अधिवेशन में सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने ये बातें कहीं।

मेधा ने कहा कि गुजरात में भी शराबबंदी लागू है लेकिन वहां यह सफल नहीं है। वहां हजारों करोड़ रुपए की शराब बेची जा रही है। नोटबंदी पर कहा कि यह पूरी तरह फेल है। धर्म बांचने और नोटबंदी बांचने में कोई फर्क नहीं दिख रहा है। मेधा सरकार ने केन्द्र को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सरकार लोगों को नर्मदा में जलसमाधि देने की कोशिश कर रही है। कहा कि केन्द्र की सारी योजनाएं फेल हो गयीं हैं। किसी भी फ्रंट पर काम नहीं हो रहा।

दलितों पर अत्याचार बढ़ा

मेधा ने कहा कि दलितों पर अत्याचार बढ़ा है। ऊना से लेकर हैदराबाद तक दलितों पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ी है। ये सरकार दलितों के हक में काम नहीं कर रही।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Medha Patekar says, liquor prohibition succesful in Bihar due to political will power
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें