class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संक्रमण से बच्चों में डायरिया का प्रकोप बढ़ा

दूषित पानी और बासी भोजन से डायरिया और पीलिया के मरीजों की संख्या बढ़ गई है। अस्पतालों के ओपीडी में 20 प्रतिशत मरीज डायरिया और पीलिया से पीड़ित आ रहे हैं। खासकर इन बीमारियों से 12 साल से कम उम्र के बच्चे अधिक पीड़ित हो रहे हैं। सबसे अधिक पीएमसीएच में मरीज भर्ती हो रहे हैं जबकि शहर के अन्य सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में इन बीमारियों के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

पीएमसीएच के मेडिसिन विभाग के ओपीडी में प्रतिदिन औसतन डेढ़ सौ मरीज डायरिया, पीलिया और वायरल बुखार से पीड़ित देखे जा रहे हैं। यही स्थिति एनएमसीएच की है। यहां भी प्रतिदिन औसतन 70 से 80 मरीज इन बीमारियों से पीड़ित होकर पहुंच रहे हैं। न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में औसतन 20 मरीज डायरिया से पीड़ित आ रहे हैं। अस्पतालों के अधीक्षकों का कहना है कि अस्पताल में ओआरएस, स्लाइन, पारासिटामॉल आदि दवाएं पर्याप्त मात्रा में है। डॉक्टरों का कहना है कि तापमान में उतार चढ़ाव होने से गैस्ट्रोइंट्रोटाइटिस से भी मरीज पीड़ित हो रहे हैं।

बाजार के भोजन पर विशेष ध्यान दें

पीएमसीएच मेडिसिन विभाग के डा.बिरेंद्र प्रसाद सिन्हा का कहना है कि इस समय साफ पानी कम से कम पांच से छह लीटर प्रतिदिन पीना चाहिए। बाजार के खुले खाद्य सामग्री का सेवन न करें। कटे फल और सब्जी न खाएं। बासी भोजन कभी न सेवन करें। बच्चों को फ्रिज का पानी न दें। गर्मी से बचाव करें। बुखार आने से डॉक्टर से सलाह लें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Diarrhea outbreak in children by infection