class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीब परिवार को मुफ्त डायलेसिस अगले साल से

गरीब परिवारों को मुफ्त डायलेसिस सुविधा अगले साल से मिलेगी। स्वास्थ्य विभाग ने इसकी सहमति दे दी है। गरीब परिवार के डायलेसिस में जो भी खर्च होगा, उसका वहन सरकार करेगी। लेकिन गरीब परिवार की परिभाषा को लेकर अभी स्वास्थ्य विभाग में मंथन चल रहा है।

गरीब परिवार में सिर्फ बीपीएल परिवारों को यह सुविधा मिले या ढ़ाई लाख से कम आय वाले परिवारों को भी, इस पर अभी अंतिम निर्णय नहीं हो पाया है। केन्द्र सरकार ने गरीब परिवारों का वर्गीकरण करने का काम राज्य सरकार पर छोड़ दिया है। डाललेसिस पर जो खर्च वहन होगा, उसका 60 प्रतिशत केन्द्र सरकार व 40 प्रतिशत राज्य सरकार करेगी। अभी जिला अस्पतालों में डायलेसिस सुविधा के लिए मरीजों को 1460 रुपए देना पडता है। निजी नर्सिग होम में मरीजों से और अधिक चार्ज लिया जाता है।

चार मेडिकल कॉलेज अस्पताल नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल, दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल, अनुग्रह नारायण मेडिकल कॉलेज अस्पताल गया, जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल भागलपुर में डायलेसिस सेन्टर खोला गया है। श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज मुजफ्फरपुर में डायलेसिस की मशीन स्थापित हो गई है, लेकिन चालू नहीं हो पाई है। वर्द्धमान मेडिकल कॉलेज के नालंदा सदर अस्पताल में डायलेसिस सेंटर खोला जाएगा।

तीन जिलों के सदर अस्पताल मधुबनी, समस्तीपुर, शेखपुरा, गोपालगंज, बक्सर, अरवल, नालंदा, पूर्वी चम्पारण, लखीसराय, सुपौल, जमुई, अररिया व बांका यानी कुल 17 सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में डायलेसिस केन्द्र स्थापित कर सुचारू रूप से संचालित किए जा रहे हैं। पूर्णिया जिला अस्पताल का अपना डायलेसिस सेन्टर है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की योजना है कि सभी जिला अस्पतालों में डायलेसिस की सुविधा मरीजों को मिले।

कोट

अगले साल से गरीब परिवारों को मुफ्त डायलेसिस सुविधा मिलेगी। इसकी तैयारी चल रही है।

- आर. के. महाजन,प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dailesis Facility Poor patient