Image Loading Central Govt seeks Water way in bihar - Hindustan
रविवार, 26 मार्च, 2017 | 20:23 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसाला: जब रवीना ने अपने को-स्टार को जड़ दिए तीन थप्पड़!, पढ़ें बॉलीवुड की 10...
  • हिन्दुस्तान Jobs: NALCO में हो रही हैं प्रोजेक्ट मैनेजर समेत कई पदों पर भर्तियां,...
  • CAG शक्तिकांत ने कहा डिमोनेटाइजेशन के असर को ऑडिट करेगा कैग
  • नोटबंदी के बाद से डिजिटल पेमेंट के अलग-अलग तरीक़ों में काफ़ी वृद्धि देखने को...

बिहार में जल मार्ग की टोह ले रही केन्द्र सरकार

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो First Published:19-10-2016 09:41:19 PMLast Updated:19-10-2016 09:50:09 PM

केन्द्र सरकार बिहार में जलमार्ग की टोह ले रही है। बुधवार को केन्द्रीय जहाजरानी मंत्रालय के अधिकारी अमिताभ वर्मा व राज्य सरकार के परविहन मंत्री चंद्रिका राय के बीच इस मामले पर विचार-विमर्श हुआ। केन्द्र की योजना है कि सड़क मार्ग पर लोड कम करने के लिए गंगा नदी में जहाज चलाने की है।

कुछ साल पूर्व परिवहन विभाग के तत्कालीन प्रधान सचिव विजय प्रकाश ने क्षतिग्रस्त पुलों व सड़कों पर ओवरलोडिंग कम करने के लिए इसकी कवायद शुरू की थी, लेकिन वह योजना आगे नही बढ़ सकी। विभाग ने राज्य के पांच प्रमुख घाटों पर जहाज चलाने का निर्णय लिया था। इसमें पटना, वैशाली, बेगूसराय व खगड़िया जिले के घाट शामिल थे। मनेर (पटना) से डोरीगंज, दीघाघाट (पटना) से सोनपुर, सबलपुर (पटना ) से हाजीपुर, हथिदह (मोकामा) से सिमरिया घाट (बेगूसराय) एवं गणगनिया (सुल्तानगंज) से अगवानीघाट (खगड़िया) के बीच पानी के जहाज का परिचालन होना था।

परिवहन विभाग ने सभी संबंधित जिलों के डीएम से रिपोर्ट भी मांगी थी। विभाग उसी घाट का चयन जहाज चलाने के लिए कर रहा था, जहां अब भी पर्याप्त पानी है। 1983 में गांधी सेतु बनने के पहले गंगा के घाटों पर पानी के जहाज से ही आवागमन होता था।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Central Govt seeks Water way in bihar
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड