class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब एक क्लिक पर सामने होगा बिहार पुलिस का डाटा

बिहार पुलिस हाईटेक होने जा रही है। विभिन्न पुलिस इकाइयों और जिला पुलिस के पास मौजूद संसाधन को एक क्लिक पर जानने के लिए रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम सॉफ्टवेयर लगाया गया है। अब पुलिस के मैनपावर से लेकर उसके हथियार, गाड़ी और अन्य संसाधनों का लेखाजोखा कम्प्यूटर में होगा। फिलहाल इसका ट्रायल हो रहा है। अगले महीने से पुलिस लाइन का कामकाज इसी सॉफ्टवेयर के जरिए होगा।

मैनपावर, हथियार व गाड़ियों का डाटा

इस सॉफ्टवेयर की खूबी है कि इसमें पुलिस से संबंधित कई तरह की जानकारियां फीड की गई हैं। जानकारियों के आधार पर डाटा बेस तैयार किया गया है। जिलावार बनने वाले डाटाबेस में पुलिस अफसर और जवानों के पद की संख्या के साथ उनकी तैनाती या प्रतिनियुक्ति का रिकार्ड होगा। हर पुलिसकर्मी का अपना डाटाबेस होगा। उनकी छुट्टी का भी हिसाब-किताब इसमें दर्ज रहेगा। किसने कितनी छुट्टी ली है। छुट्टी पर गए हैं तो कब वापस आना है जैसी तमाम जानकारियां इस सिस्टम में रहेंगी। डाटाबेस में जिला पुलिस को मिले हथियार और वाहनों का भी रिकॉर्ड भी डाला जाएगा।

पुलिस लाइन का काम होगा आसान

रिसार्स मैनेजमेंट सिस्टम सॉफ्टवेयर के शुरू होने के बाद पुलिस लाइन से होनेवाला काम कम्प्यूटराइज्ड हो जाएंगे। कम्प्यूटर से रैंडमाइज कमान काटने की व्यवस्था होगी। ऐसा नहीं होगा कि एक जवान को ही लगातार किसी खास स्थान पर ड्यूटी मिलेगी। जवानों को यदि कोई विशेष प्रशिक्षण मिला है तो डाटाबेस में इसका भी जिक्र होगा, ताकि जरूरत के मुताबिक उनका इस्तेमाल किया जा सके।

नवम्बर महीने से काम शुरू होगा

फिलहाल बिहार पुलिस इसे ट्रायल बेसिस पर चला रही है। ताकि कोई दिक्कत आती है तो उसे दूर कर लिया जाए। नवम्बर से पुलिस लाइन का कामकाज इसी सिस्टम के जरिए निपटाया जाएगा। अधिकारी जब चाहे अपने फोर्स का रिकॉर्ड देख सकते हैं। कमान काटने का काम पारदर्शी होगा। इसमें मुंशी की मनमर्जी नहीं चलेगी, वहीं अधिकारियों और जवानों के जोन, रेंज और जिला टर्म पूरा होने का पता भी आसानी से चल जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar Police data will be on one click