Image Loading ngt scold shri shri ravishankar said understand your responsibility - Hindustan
सोमवार, 24 अप्रैल, 2017 | 11:03 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: RCB कप्तान विराट ने मैच के बाद कहा, 'ये इतना बुरा था कि अभी..' यहां...
  • बॉलीवुड मसालाः बाहुबली-2 का पहला गाना आया और इंटरनेट पर मच गया धमाल, इसके अलावा...
  • टॉप 10 न्यूज: सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्स: गर्मियों में रोजाना पीयें मट्ठा, कैलोरी व फैट रखेगा नियंत्रित
  • ओपिनियनः पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का लेख- स्टार्ट-अप में उतार-चढ़ाव का दौर
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना और रांची में आज रहेगी गर्मी। देहरादून में...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः वृष राशि वालों को माता-पिता का सानिध्य एवं सहयोग मिलेगा। नौकरी में...
  • सक्सेस मंत्र: खुद पर विश्वास रखेंगे तो जरूर आगे बढ़ेंगे
  • टॉप 10 न्यूज: देश-दुनिया की खबरें पढ़ें एक नजर में
  • KKRvRCB: कोलकाता ने बैंगलोर को 82 रन से हराया

यमुना को नुकसान: एनजीटी की रविशंकर को फटकार, कहा-जिम्मेदारी को समझें

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-04-2017 02:05:09 PMLast Updated:20-04-2017 02:05:09 PM
यमुना को नुकसान: एनजीटी की रविशंकर को फटकार, कहा-जिम्मेदारी को समझें

राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण ने आर्ट ऑफ लिविंग (एओएल) के संस्थापक श्री श्री रविशंकर के उस बयान को स्तब्ध करने वाला बताकर एनजीओ को आज लताड़ लगाई जिसमें उन्होंने यमुना के डूबक्षेत्रों को हुए नुकसान के लिए केंद्र एवं हरित पैनल को दोषी बताया है। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, आपको जिम्मेदारी का कोई एहसास नहीं है। आपको बोलने की आजादी है तो क्या आप कुछ भी बोल देंगे। यह स्तब्ध करने वाला है।

याचिकाकर्ता मनोज मिश्रा की ओर से पेश हुए वकील संजय पारिख ने पीठ को सूचित किया था कि रवि शंकर ने हाल में एक बयान देकर यमुना नदी के डूबक्षेत्रों में विश्व संस्कति उत्सव आयोजित करने की अनुमति उनके एनजीओ को देने के लिए सरकार और एनजीटी को जिम्मेदार ठहराया है जिसके बाद पीठ ने यह बात कही। पारिख ने हरित पीठ को बताया कि आध्यात्मिक गुरू ने एनजीटी के खिलाफ आरोप लगाए हैं।

वकील ने कहा कि श्री श्री ने आर्ट ऑफ लिविंग की वेबसाइट, अपने फेसबुक पेज पर यह बयान पोस्ट किया है और उन्होंने इस बात पर लिखित बयान देकर मीडिया को संबोधित किया। हालांकि एओएल फाउंडेशन के लिए पेश हुए वकील ने विशेषज्ञ पैनल के निष्कर्ष का विरोध किया और कहा कि उन्हें समिति के निष्कर्ष को लेकर कुछ आपत्तियां हैं और उन्होंने रिपोर्ट को दरकिनार किए जाने की अपील की।

इसके बाद पीठ ने फाउंडेशन और अन्य पार्टियों को इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया और आपत्ति दो सप्ताह में दायर कराने को कहा और मामले की आगे की सुनवाई के लिए नौ मई की तारीख तय की। रविशंकर ने यमुना के डूब क्षेत्र पर एओएल की ओर से विश्व सांस्कतिक महोत्सव के आयोजन की अनुमति दिए जाने के लिए 18 अप्रैल को सरकार और एनजीटी पर ठीकरा फोड़ा था और कहा था कि यदि पयार्वरण को कोई नुकसान पहुंचा है तो इसके लिए सरकार और एनजीटी को ही जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

एओएल के प्रमुख ने कहा था कि फाउंडेशन ने एनजीटी सहित सभी संस्थाओं से सभी जरूरी अनुमतियां ले ली थीं और यदि यमुना नदी इतनी ही सुकुमार और पवित्र है तो कार्यक्रम शुरू में ही रोक देना चाहिए था।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: ngt scold shri shri ravishankar said understand your responsibility
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड