Image Loading both ulema of hazrat nizamuddin ali dargah will reach delhi - Hindustan
रविवार, 23 अप्रैल, 2017 | 15:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: क्रिकेट छोड़ भज्जी ने किया पोल डांस। कपिल ने सुनील को कहा थैंक्स।...
  • नवी मुंबई: कार शोरूम में आग लगाने से दो लोगों की मौत
  • टॉप 10 न्यूज़: विडियो में देखें देश और दुनिया की अभी तक की बड़ी खबरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: विराट की टीम को मजबूती, इस स्टार बल्लेबाज की हुई वापसी। पढ़ें...
  • बॉलीवुड मसाला: जिन्होंने शो छोड़ा कपिल ने उन्हें कहा शुक्रिया, देखें EMOTIONAL VIDEO।...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर में आज रहेगी गर्मी। लखनऊ में छाए रहेंगे बादल। पटना,...
  • ईपेपर हिन्दुस्तानः आज का अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें
  • आपका राशिफलः कन्या राशि वालों को परिवार का सहयोग मिलेगा, नौकरी में तरक्की के बन...
  • सक्सेस मंत्र: काम को बोझ समझकर नहीं बल्कि पूरे मन और आनंद से करें
  • MCD चुनाव 2017: थोड़ी देर में शुरू होगा मतदान, 56 हजार सुरक्षाकर्मी करेंगे निगरानी
  • MIvDD : मुंबई ने दिल्ली को 14 रन से हराया

पाकिस्तान में लापता हुए भारतीय मौलवी वतन लौटे

नई दिल्ली कार्यालय संवाददाता First Published:20-03-2017 07:17:39 PMLast Updated:20-03-2017 07:17:39 PM
पाकिस्तान में लापता हुए भारतीय मौलवी वतन लौटे

गत सप्ताह पाकिस्तान में लापता हो गए हजरत निजामुद्दीन दरगाह के सज्जादानशीन सहित दो भारतीय मौलवी सोमवार दोपहर को स्वदेश लौट आए। सैयद आसिफ निजामी और उनके भतीजे नाजिम अली निजामी का परिजनों और शुभचिंतकों ने हवाईअड्डे पर स्वागत किया। अपनी सकुशल वापसी के लिए दोनों मौलवियों ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह सहित भारत और पाकिस्तान की सरकारों को धन्यवाद दिया।

हजरत निजामुद्दीन दरगाह के सज्जादानशीन आसिफ निजामी के पुत्र आमिर निजामी ने भारत सरकार के प्रयासों की विशेष रूप से सराहना की। वहीं, आमिर ने आरोप लगाया कि दोनों को पाकिस्तान के एक उर्दू दैनिक अखबार की खबर के आधार पर पकड़ा गया था।

उक्त खबर में दावा किया गया था कि दोनों के भारतीय गुप्तचर एजेंसी रॉ से संबंध हैं। हालांकि, इसके पीछे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ होने के सवाल पर आमिर ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। मगर उन्होंने इतना जरूर कहा कि उनके खिलाफ कोई बल प्रयोग नहीं किया गया और दोनों बिल्कुल ठीक हैं। हालांकि, वतन लौटने के बाद दोनों मौलवियों ने इस बारे में कुछ भी नहीं कहा कि वे कैसे लापता हो गए थे।

वहीं, नाजिम अली निजामी ने पाकिस्तानी मीडिया की उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें कहा गया था कि वे भीतरी सिंध में थे, जहां मोबाइल नेटवर्क नहीं था। उन्होंने बताया कि हमारे पास सिंध के भीतरी क्षेत्र में जाने के लिए वीजा नहीं था तो हम वहां कैसे जाते। हम सूफी विचारधारा से संबंध रखते हैं जो शांति और भाईचारा सिखाती है।

पाकिस्तानी एजेंसियों द्वारा पूछताछ करने के सवाल पर नाजिम ने कहा कि उनसे वीजा और आव्रजन के संबंध में पूछताछ की गई थी। नाजिम और सैयद आसिफ निजामी ने कहा कि हम केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और हमारी वापसी के लिए प्रार्थना करने वाले सभी धर्मों के शुभचिंतकों को धन्यवाद देते हैं।

यह है मामला
80 वर्ष के सैयद आसिफ निजामी अपनी बहन से मिलने के लिए भतीजे नाजिम अली निजामी के साथ 6 मार्च को पाकिस्तान गए थे। वे 13 मार्च को कराची पहुंचे और पाकपट्टन में सूफी संत बाबा फरीद गांग के दरगाह पर जियारत के लिए गए थे। दोनों 14 मार्च को लाहौर से लापता हो गए थे। दोनों मौलवियों के लापता होने से भारत और पाकिस्तान में हड़कंप मच गया था।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: both ulema of hazrat nizamuddin ali dargah will reach delhi
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड