class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुपरटेक जार सोसायटी के 1060 मकान सील

सुपरटेक जार सोसायटी के 1060 मकान सील

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर प्राधिकरण ने शुक्रवार को सुपरटेक बिल्डर के प्राजेक्ट जार सोसायटी में 1060 मकानों को सील कर दिया। इनमें 954 फ्लैट व 106 विला शामिल थे। कार्रवाई के दौरान आवंटियों और प्राधिकरण दस्ते के बीच विवाद भी हुआ।

सुपरटेक बिल्डर ने सेक्टर ओमीक्रान स्थित प्रोजेक्ट में निर्धारित फ्लैटों से ज्यादा टावर खड़े कर दिए थे। मामले को लेकर सोयायटी के लोगों ने उच्च न्यायालय में वाद दायर किया था। कई दौर की सुनवाई के बावजूद बिल्डर और प्राधिकरण का नियोजन विभाग उच्च न्यायलय को सही जानकारी नहीं दे रहा था। इससे नाराज होकर न्यायधीश ने बुधवार को मानचित्र से ज्यादा बने विला और फ्लैटों को सील करने का आदेश जारी कर दिया। इस पर कार्रवाई करते हुए प्राधिकरण के नियोजन और परियोजना विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को अधिक बने 1060 मकानों को सील कर दिया।
 
आवंटियों और दस्ते के बीच विवाद
फ्लैट सील किए जाने की कार्रवाई के दौरान प्राधिकरण दस्ते में शामिल अधिकारी और मौके पर मौजूद आवंटियों के बीच विवाद भी हुआ। दर्जनों विला ऐसी थीं जिनमें परिवार रह रहे थे। उन्हें दो दिन की मौहल देकर छोड़ दिया गया। सोसायटी के आवंटी जहां इस कार्रवाई को लेकर खुश थे वहीं मान्य मानचित्र से ज्यादा बने टावर में फ्लैट खरीदने वाले लोग काफी नाराज थे वे बिल्डर और प्राधिकरण अफसरों को लेकर काफी गाली गलौच कर रहे थे।
 
नियोजन विभाग सवालों के घेरे में
इस पूरे प्रकरण में जहां बिल्डर की जालसाजी उजागर हुई है वहीं प्राधिकरण का नियोजन विभाग भी सवालों के घेरे में आ गया है। कई आवंटी ऐसे थे जो प्राधिकरण से स्वीकृत मानचित्र की काफी दिखा रहे थे। उक्त कापी में करीब दो हजार फ्लैट व 106 विला स्वीकृत दर्शाए हुए थे जबकि कार्रवाई कर रहे अधिकारी जो फ्लैटों को सील कर रहे थे उनके पास मौजूद नक्शा दूसरा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 1060 house seals of supertech jar society