Image Loading the number of angry children increased by 70 percent in 5 years - Hindustan
बुधवार, 29 मार्च, 2017 | 04:58 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • जम्मू और कश्मीरः पूरे राज्य में कल रेलवे सेवाएं निलंबित रखी जाएंगी
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

'गुस्सैल मासूमों' की तादाद 5 साल में 70% बढ़ी, जानिए क्या है वजह?

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:20-03-2017 08:11:14 AMLast Updated:20-03-2017 08:11:14 AM
'गुस्सैल मासूमों' की तादाद 5 साल में 70% बढ़ी, जानिए क्या है वजह?

तीन से 7 वर्ष की उम्र के बच्चों में छोटी सी बात पर एक-दूसरे को धक्का देने या चीजों पर गुस्सा उतारने जैसी आदतें हैं तो वे आगे 'अटेंशन डेफिसिएंसिसी हाईपर एक्टिव डिसऑर्डर' का शिकार बन सकते हैं। एम्स के पीडियाट्रिक विभाग के जेनेटिक क्लीनिक में आने वाले ऐसे बच्चों की संख्या 5 वर्षो में 70 फीसदी बढ़ी है।

एम्स में बाल मस्तिष्क रोग विभाग की प्रमुख डॉ. शेफाली गुलाटी ने बताया कि एडीएचडी (अटेंशन डेफिसिएंसिसी हाईपर एक्टिव डिसऑर्डर) के शिकार बच्चे छोटी सी बात पर नाराज हो जाते हैं। यह समस्या उच्च आय वर्ग के हर 10वें बच्चे में देखी जा रही है। बच्चे में ऐसा व्यवहार सप्ताह में तीन बार से ज्यादा हो तो उसे मनोचिकित्सक को दिखाएं।

जेनेटिक क्लीनिक में हुए अध्ययन में 1000 से अधिक बच्चों में से 60 प्रतिशत का व्यवहार सामान्य नहीं पाया गया। हालांकि, 99 प्रतिशत माता-पिता खुद इस व्यवहार के प्रति सचेत नहीं रहते। भाई-बहन, सहपाठी या फिर टीचर को ऊंची आवाज में जवाब देना भी सीबीसीएल (चाइल्ड बिहेव्यिर चेक लिस्ट) में असामान्य माना गया है, जिसको वह टीवी, वीडियो और मोबाइल गेम से हासिल कर रहे हैं।

4 से 8 वर्ष के बच्चों की संख्या सबसे अधिक है, जो जिद करके अपनी बात मनवाते हैं। 10 से 15 वर्ष की उम्र के 40 फीसदी बच्चे खुद अभिभावकों के जरिए गुस्से की आदत का शिकार हो रहे हैं।

काउंसलिंग के तीन चरणों में बच्चों के व्यवहार को परखा गया। अध्ययन में यह भी देखा गया कि माता-पिता बच्चे के साथ कम समय बिताते हैं। इसका विकल्प पीसी, वीडियो गेम और टीवी के कार्यक्रम आसानी से बन गए हैं।

पैरेंट्स इन बातों का हमेशा ध्यान रखें

- बच्चों को कम ही सही, मगर बेहतर समय दें
- बच्चों से हमेशा आंख से आंख मिलाकर बात करें
- बच्चे की हर जिद को पूरा न करें, उन्हें शांति से समझाने का प्रयास करें
- 4 से 10 वर्ष की उम्र के बच्चों के सामने माता-पिता अपने आपसी झगड़े न सुलझाएं - क्रेच को परवरिश का बेहतर माध्यम नहीं माना गया है
- नियमित रूप से 6 घंटे का समय बच्चों के साथ जरूर बिताएं
- बच्चों से हमेशा संयमित व्यवहार करें

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: the number of angry children increased by 70 percent in 5 years
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें