class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशांत किशोर को ढूंढकर लाओ, पांच लाख रुपये का इनाम पाओ

प्रशांत किशोर को ढूंढकर लाओ, पांच लाख रुपये का इनाम पाओ

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी से गठबंधन के बावजूद कांग्रेस की करारी हार के बाद चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर की काफी आलोचना हो रही है। 

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को महज 7 सीटें मिली हैं और अब तक की सबसे बड़ी हार है। हार के बाद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पीके पर जमकर अपनी भडास निकाल रहे है। 

लखनऊ में कांग्रेस कार्यालय के बाहर एक पोस्‍टर लगाया गया है, इस पोस्‍टर में लिखा गया है, "स्वयं-भू चाणक्य प्रशांत किशोर को खोजकर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता सम्मेलन में लाने वाले किसी भी नेता को पांच लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा।"

यह पोस्टर यूपी कांग्रेस कमिटी के सचिव राजेश सिंह ने लगवाया है. इस घटनाक्रम के बाद सिंह को पार्टी से 6 वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया गया है।  

गौरतलब है प्रशांत किशोर को बिहार सरकार ने 2015 में कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया है।  हालांकि प्रशांत जनता के सामने कम ही आते हैं लेकिन वह पार्टी नेताओं को प्रेस और अन्य गतिविधियों के जरिये जनता के बीच केंद्र में बनाए रखने की पूरी कोशिश करते हैं।  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:prashant kishore criticized by congress party worker