Image Loading pradhanmantri jan dhan yojna note ban - Hindustan
रविवार, 26 फरवरी, 2017 | 22:38 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बिहार आईएएस अफसरों ने कहा, मुख्यमंत्री का भी मौखिक आदेश नहीं मानेंगे, पूरी खबर...
  • 1 मार्च से 5वें ट्रांजेक्शन पर देना होगा 150 रुपए टैक्स, पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक...
  • अखिलेश का पीएम पर वार, कहा- देश को अपने किए काम बताएं मोदी, पूरी खबर के लिए क्लिक...
  • जनता के मुद्दे हमारे लिए महत्वपूर्णः यूपी सीएम अखिलेश यादव
  • महाराजगंज में बोले अखिलेश यादव, जनता अभी तक मोदी के मन की बात नहीं समझ पाई
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, अब तक DIGI धन योजना के तहत 10 लाख लोगों को इनाम दिया गया
  • मन की बात में बोले पीएम मोदी, ISRO ने देश का सिर ऊंचा किया
  • सपा की धुआंधार सभाएं आज, लालू यादव भी प्रचार करने उतरेंगे मैदान में। पूरी खबर...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, देहरादून और रांची में रहेगी हल्की धूप।...
  • पढ़ें आज के हिन्दुस्तान में शशि शेखर का ब्लॉग: पानी चुनावी मुद्दा क्यों नहीं?
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः मिथुन राशिवाले आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • Good Morning: BMC चुनाव: कांग्रेस ने शिवसेना को समर्थन देने से किया इंकार, चुनाव आयोग ने...

जनधन योजना आंकड़ों में खुलासा,खातों का नोटबंदी में नहीं हुआ दुरुपयोग

नई दिल्ली, कार्तिक शशिधर First Published:02-12-2016 08:57:53 AMLast Updated:02-12-2016 09:28:40 AM
जनधन योजना आंकड़ों में खुलासा,खातों का नोटबंदी में नहीं हुआ दुरुपयोग

प्रधानमंत्री जन-धन योजना के अंतर्गत खोले गए बचत खाते नोटबंदी में गलत इस्तेमाल के आरोपों के बीच काफी सुर्खियों में हैं। हालांकि, हाल में जारी आंकड़ों से यह स्पष्ट है कि खातों का दुरुपयोग नहीं हो रहा है।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना द्वारा 9 नवंबर से 23 नवंबर के बीच जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक, इस अवधि में शून्य राशि जमा वाले खातों की संख्या में मात्र एक प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। 9 नवंबर को शून्य राशि जमा वाले जन-धन खातों की संख्या 59.4 करोड़ थी, जो 23 नवंबर को मामूली घटकर 58.9 करोड़ रह गए।

राज्यवार स्थिति पर नजर डालें तो उत्तराखंड में शून्य राशि जमा वाले जन-धन खातों की संख्या में 2 नवंबर से 23 नवंबर के बीच 15 प्रतिशत की गिरावट आई है। जम्मू-कश्मीर में यह 12 प्रतिशत घटा है। वहीं, महाराष्ट्र, असम में इन खातों की संख्या में तेजी आई है। हालांकि, इसके पीछे माना जा रहा है कि लोगों ने या तो अपनी पूरी जमा राशि ही निकाल ली है या लेन-देन नहीं होने की वजह से बड़ी संख्या में खाते बट्टा खाते में चले गए हैं।

इसलिए थी चिंता
जन-धन खातों को लेकर चर्चा है कि इसकी मदद से आयकर विभाग की नजरों से चुराकर पुराने नोट को सफेद करने की गतिविधियां हो रही हैं। इसमें खासकर शून्य राशि जमा वाले खातों को लेकर विशेष चिंता है।

15 दिन में 16 लाख खाते
नोटबंदी के बाद 15 दिनों के अंदर कुल 16 लाख जन-धन खाते खोले गए हैं। 9 नवंबर को जन-धन खातों की संख्या 25.51 करोड़ थी, जो 23 नवंबर को बढ़कर 25.67 करोड़ पर पहुंच गई।

पैसे का हिसाब
- 72834.72 करोड़ रुपये कुल जमा हैं जन-धन खातों में फिलहाल
- 25.68 करोड़ जन-धन खाते देशभर में खोले गए हैं।

500 के पुराने नोट पर सरकार का बड़ा फैसला, अब यहां नहीं चलेंगे

सेना को लेकर ममता ने सचिवालय में डेरा डाला

यह भी पढ़ें: क्या वाकई पाक सेना प्रमुख बाजवा कुछ बदल सकेंगे?

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: pradhanmantri jan dhan yojna note ban
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड