Image Loading learn about these 13 points how our water will be lacking in water - Hindustan
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 10:18 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • बॉलीवुड मसाला: दूसरे दिन 'फिल्लौरी' ने पकड़ी रफ्तार, कमाए इतने करोड़, यहां पढ़ें,...
  • भारतीय नागरिकता मिलने के दो दिन बाद ही शॉन टैट ने क्रिकेट के हर फॉरमैट से...
  • #INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल शुरू, टीम इंडिया का स्कोर 248/6, रिद्धमान साहा (10) और रविंद्र...
  • टॉप 10 न्यूज: यूपी में आज भी हड़ताल पर होंगे मीट और मछली व्यापारी, सुबह 9 बजे तक की...
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: बिमटेक के डायरेक्टर हरिवंश चतुर्वेदी का विशेष लेख- पिछड़ता...
  • पंजाब: गुरदासपुर में BSF जवानों ने पहाड़ीपुर पोस्ट के पास एक पाकिस्तानी...
  • हेल्थ टिप्स: सीढ़ी चढ़ने से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा, क्लिक कर पढ़ें
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और लखनऊ में होगी तेज धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आय में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का हाल जानने के...
  • सक्सेस मंत्र: अवसर जरूर द्वार खटखटाते हैं, बस पहचानना आना चाहिए, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: कश्मीर में आतंक-PDP मंत्री के घर पर हमला, दो पुलिसकर्मी हुए घायल, अन्य...

इन 13 प्वाइंट्स में जानें, पानी की कमी से कैसा होगा हमारा भविष्य

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:21-03-2017 04:30:33 PMLast Updated:21-03-2017 04:30:33 PM
इन 13 प्वाइंट्स में जानें, पानी की कमी से कैसा होगा हमारा भविष्य

हम रोजाना कई लीटर पानी फिजूल खर्च कर जाते हैं, लेकिन इसका परिणाम भविष्य में बेहद भयावह हो सकती है। संयुक्त राष्ट्र की विश्व जल विकास रिपोर्ट-2015 के अनुसार, यदि जल संरक्षण प्रबंधन में सुधार नहीं लाया गया तो 2030 तक पृथ्वी को 40 प्रतिशत स्वच्छ जल की कमी का सामना करना पड़ेगा। इस नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की जरूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त पानी है, लेकिन उसके सही प्रबंधन की आवश्यकता है। आइए जानते हैं इस रिपोर्ट के जरिए...

ये प्वाइंट्स है बेहद महत्वपूर्ण

1. 'एक सतत विश्व के लिए जल' नामक इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में लगभग 9.7 करोड़ लोगों को पीने का स्वच्छ पानी मिलता है।

2. लगातार बढ़ रही जनसंख्या के कारण कृषि तथा ऊर्जा क्षेत्रों पर अधिकतम उत्पादन के लिए दबाव बना है।

3. 2050 में पूरे विश्व की खाद्य जरूरतें पूरी करने के लिए कृषि क्षेत्र को 60 प्रतिशत अधिक खाद्यान्न उत्पादन करना होगा। विकासशील देशों में तो 100 प्रतिशत अधिक खाद्यान्न उत्पादन करना होगा और इसके लिए कृषि को भारी मात्रा में पानी की जरूरत होगी।

4. विनिर्मित वस्तुओं की मांग में भी वृद्धि हो रही है, जिसके कारण जल संसाधनों पर अतिरिक्त दबाव पड़ेगा।

5. विनिर्माण क्षेत्र में विश्व में पानी की मांग वर्ष 2000 की तुलना में 2050 में 400 प्रतिशत बढ़ जाएगी।

6. 2050 में विश्व में पानी की मांग 55 प्रतिशत बढ़ जाएगी। यह मांग विनिर्माण, तापीय बिजली और घरेलू इस्तेमाल के लिए बढ़ेगी।

7. आने वाले वर्षों में जल प्रबंधन यदि ठीक तरह से नहीं किया गया तो पेयजल से लेकर सिंचाई व उद्योगों के लिए जल की पर्याप्त आपूर्ति करना कठिन हो जाएगा।

8. पानी को लेकर लोगों की सोच और व्यवहार नहीं बदला तो विश्व में अगले 15 वर्षों में पानी की जरूरत की तुलना में आपूर्ति 40 प्रतिशत कम हो जाएगी।

9. रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि अत्यधिक सिंचाई, जलाशयों में अनियंत्रित रूप से कीटनाशकों व रसायनों को छोड़ना तथा अपशिष्ट जल संयंत्रों की कमी आने वाले समय में स्वच्छ जल की भयंकर कमी की ओर संकेत करते हैं।

10. रिपोर्ट के अनुसार भारत, नेपाल, बांग्लादेश और चीन कृषि कार्यों के लिए विश्व के लगभग आधे भूजल का इस्तेमाल करते हैं।

11. एशियाई देशों में सिंचाई के लिए इस पानी के इस्तेमाल से अर्थव्यवस्था को 10 से 20 अरब डॉलर का लाभ होता है।

12. भारत में भूमिगत जल का दोहन 20वीं सदी के उत्तरार्द्ध में बढ़ा है। भारत में 1960 में 10 लाख ट्यूबवेल थे, जिनकी संख्या वर्ष 2000 में बढ़कर 1.9 करोड़ हो गई। लेकिन इससे देश के राजस्थान तथा महाराष्ट्र जैसे कई क्षेत्रों में जल की समस्या भी सामने आई।

13. यह अंतर्राष्ट्रीय मत है कि सतत विकास के कई लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए जल तथा स्वच्छता जरूरी है, जो उल्लेखनीय तौर पर जलवायु परिवर्तन, कृषि, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य, ऊर्जा, समानता, लिंग तथा शिक्षा से जुड़े हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: learn about these 13 points how our water will be lacking in water
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड