Image Loading india may face rice scarcity by 2030 - Hindustan
मंगलवार, 25 अप्रैल, 2017 | 00:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • IPL10 #MIvRPS: पुणे ने लगाई जीत की हैट्रिक, मुंबई का विजयरथ रोक 3 रन से हराया
  • IPL10 #MIvRPS: 15 ओवर के बाद मुंबई का स्कोर 113/4, क्रीज पर रोहित-पोलार्ड। लाइव कमेंट्री और...
  • IPL10 #MIvRPS: 5 ओवर के बाद मुंबई का स्कोर 35/1, बटलर हुए आउट। लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के...
  • IPL10 #MIvRPS: पुणे ने मुंबई इंडियंस के सामने रखा 161 रनों का टारगेट
  • आपकी अंकराशि: 6 मूलांक वाले कल न लें जोखिम भरे मामलों में निर्णय, जानिए कैसा रहेगा...
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े देश और विदेश की आज की 10 बड़ी खबरें
  • IPL10 #MIvRPS: 10 ओवर के बाद पुणे का स्कोर 84/1, रहाणे हुए आउट। लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के...
  • धर्म नक्षत्र: फेंगशुई TIPS: घर को सजाएं इन फूलों से, भरा रहेगा घर पैसों से, पढ़ें...
  • IPL10 MIvRPS: 6 ओवर के बाद पुणे का स्कोर 48/0, क्रीज पर रहाणे-त्रिपाठी। लाइव कमेंट्री और...
  • रिश्ते में दरार: सलमान-यूलिया के बीच बड़ा झगड़ा, वजह जान चौंक जाएंगे, यहां पढ़े...
  • IPL10 #MIvRPS: मुंबई ने जीता टॉस, पहले फील्डिंग करने का लिया फैसला
  • हिन्दुस्तान Jobs: देना बैंक में भर्ती होंगे 16 सिक्योरिटी मैनेजर, सैलरी 45,950 तक, पढ़ें...
  • SC का आदेश: यूपी में हर साल 30 हजार कांस्टेबल की हो भर्ती, पढ़ें राज्यों से अब तक की 10...
  • छत्तीसगढ़: नक्सलियों के साथ हुए एनकाउंटर में CRPF के 11 जवान शहीद
  • सुप्रीम कोर्ट ने यूपी में 3,200 सब इंस्पेक्टर व 30000 कांस्टेबल हर साल भर्ती करने का...

ग्लोबल वार्मिंगः 13 साल बाद ही भारत में हो सकता है चावल का 'अकाल'

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान First Published:20-04-2017 05:54:43 PMLast Updated:21-04-2017 12:07:43 PM
ग्लोबल वार्मिंगः 13 साल बाद ही भारत में हो सकता है चावल का 'अकाल'

साल 2030 तक देश में लोग चावल के दाने के लिए मोहताज हो सकते हैं। आने वाले समय में मौसम का तापमान बढ़ने से देश में चावल को उगाना काफी मुश्किल हो जाएगा। देश में बड़ी आबादी चावल पर निर्भर है और इसी कारण देश के सामने खाद्यान्न का संकट उत्पन्न हो सकता है।

ह्यूलेट फाउंडेशन के प्रोग्राम ऑफिसर मैट बेकर ने बताया कि 2030 में भारतीय उपमहाद्वीप का तापमान काफी बढ़ जाएगा। इस कारण से इन इलाकों में चावल को उगाना काफी मुश्किल है। उन्होंने आगे बताया कि हालांकि भारत ने इससे निपटने के लिए भारत ने अरब डालरों में निवेश करने का फैसला किया है। इसके तहत भारत वातावरण में एयरोसोल्स डालेगा जिससे पृथ्वी के तापमान को नीचे लाया जा सके। उन्होंने कहा कि हमें सौर विकिरण प्रबंधन पर काम करने की जरूरत है जिससे तापमान में कमी लाई जा सके।

भारत में चावल विश्व की दूसरी सर्वाधिक क्षेत्रफल पर उगाई जाने वाली फसल है। विश्व में लगभग 15 करोड़ हेक्टेयर भूमि पर 45 करोड़ टन चावल का उत्पादन होता है। भारत में विश्व के कुल उत्पादन का बीस फीसदी चावल पैदा किया जाता है। भारत में 4.2 करोड़ हेक्टेयर भूमि पर 9.2 करोड़ मीट्रिक टन चावल का उत्पादन किया जाता है।

स्टीफन हॉकिंग की ट्रंप को चेतावनी, ग्लोबल वॉर्मिंग को नजरअंदाज न करें

चावल भारत की सर्वाधिक मात्रा में उत्पादित की जाने वाली फसल है। यहां लगभग 34 फीसदी भू-भाग पर मोटे अनाज की खेती की जाती है। भारत में चावल उत्पादक राज्यों में पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, आन्ध्र प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, कर्नाटक, उड़ीसा, असम तथा पंजाब है। यह दक्षिणी और पूर्वी भारत के राज्‍यों का मुख्‍य भोजन है।

Action में 5 राज्यों की पुलिस:3 संदिग्ध आतंकी अरेस्ट,IS से होने का शक

कनाडा की नदी ने बदला रुख
ग्‍लोबल वार्मिंग ने कनाडा की एक नदी के प्रवाह को बदल दिया है, जिसे शोधकर्ताओं ने जलवायु परिवर्तन की चरम सीमा कहा है। कनाडा के यूकोन में कस्कवल्स गलेशियर लगातार पिघल रहा है। इससे नदी ने अपना रास्ता बदल लिया है पहले यह नहीं जहां मूल रूप से उत्तर की ओर बहती थी। लेकिन अब दक्षिण की ओर बह रही है।

ये भी पढ़ेंः ग्लोबल वार्मिंग इफेक्ट: बढ़ रहे हैं मच्छर, जानलेवा बीमारियों का खतरा

खबर के मुताबिक, ज्यादा गर्मी की वजह से ग्लेशियर पर बर्फ तेजी से पिघलने लगी और इस कारण पानी का बहाव काफी तेज हो गया। पानी के तेज बहाव ने लंबे समय से बह रही नदी के रास्तों से दूर अपना अलग रास्ता बना लिया। अब नई नदी विपरीत दिशा में अलास्का की खाड़ी की ओर बहती है।

पनामागेट केसः SC के बंटे हुए फैसले से बची पीएम नवाज शरीफ की कुर्सी

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: india may face rice scarcity by 2030
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड