Image Loading farmers of maharashtra observes fast today - Hindustan
बुधवार, 29 मार्च, 2017 | 04:53 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • जम्मू और कश्मीरः पूरे राज्य में कल रेलवे सेवाएं निलंबित रखी जाएंगी
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • धर्म नक्षत्र: पढ़ें आस्था, नवरात्रि, ज्योतिष, वास्तु से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
  • अमेरिका के व्हाइट हाउस में संदिग्ध बैग मिलाः मीडिया रिपोर्ट्स
  • फीफा ने लियोनल मैस्सी को मैच अधिकारी का अपमान करने पर अगले चार वर्ल्ड कप...
  • बॉलीवुड मसाला: अरबाज के सवाल पर मलाइका को आया गुस्सा, यहां पढ़ें, बॉलीवुड की 10...
  • बडगाम मुठभेड़: CRPF के 23 और राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान पत्थरबाजी के दौरान हुआ घाय
  • हिन्दुस्तान Jobs: बिहार इंडस्ट्रियल एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी में हो रही हैं...
  • राज्यों की खबरें : पढ़ें, दिनभर की 10 प्रमुख खबरें
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े देश की अब तक की बड़ी खबरें
  • यूपी: लखनऊ सचिवालय के बापू भवन की पहली मंजिल में लगी आग।
  • पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को हार्ट में तकलीफ के बाद लखनऊ के अस्पताल...

महाराष्ट्र में आज लाखों किसानों ने रखा उपवास, जानिए क्यों

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम First Published:19-03-2017 01:50:36 PMLast Updated:19-03-2017 01:50:36 PM
महाराष्ट्र में आज लाखों किसानों ने रखा उपवास, जानिए क्यों

महाराष्ट्र में आज (19 मार्च) किसान आत्‍महत्‍या मामले की 31वीं बरसी है। इस मौके पर महाराष्ट्र के लाखों किसान ने इस भीषण समस्या की ओर सरकार का ध्यान खींचने के लिए एक अनोखा तरीका अपनाया है। यहां के लाखों किसानों ने आज उपवास रखा है।

उपवास की ये है वजह
आंदोलन के नेता अमर हबीब ने कहा है कि उपवास कार्यक्रम किसान अपनी मर्जी से कर रहे हैं। किसानों की ओर से स्वत: किया जा रहा यह उपवास राज्य और देश के अन्य हिस्सों में किसानों की स्थिति की ओर ध्यान खींचेगा और सरकार किसानों की समस्या की ओर ध्यान देगी।

पहली आत्महत्या का मामला
महाराष्ट्र में किसानों द्वारा आत्महत्या का पहला मामला आज के ही के दिन 19 मार्च, 1986 को सामने आया था। अमर हबीब के मुताबिक, 31 साल पहले एक कर्जदार किसान साहेबराव कार्पे ने पत्नी और चार बच्चों सहित खुदकुशी कर ली थी। साहेबराव ने खेती के लिए कर्ज लिया था।
हबीब कहते हैं कि महाराष्ट्र में किसान आत्महत्या का यह पहला मामला था, जो यवतमाल के चीलग्वहान में घटा था।

उस समय गांव के दौरे पर आए किसान नेता और शेतकारी संगठन के संस्थापक शरद जोशी गांव ने चेतावनी दी थी कि यदि सरकार ने जल्द ही कुछ नहीं किया तो राज्य और देश में किसानों द्वारा खुदकुशी एक चलन बन जाएगी।

हबीब बताते हैं कि कार्पे और उसके परिवार की मौत के बाद यह सिलसिला थमा नहीं। आज भी राज्य में औसतन रोज नौ किसान कर्ज के चलते खुदकुशी करते हैं। बता दें कि महाराष्ट्र में पिछले 31 सालों में 67,000 किसान आत्महत्या कर चुके हैं, जिसमें महिलाएं और युवा भी शामिल हैं

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: farmers of maharashtra observes fast today
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें