class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत के विरोध के बावजूद 'सिल्क रोड' बनाने पर अड़ा चीन, दी हिदायत

भारत के विरोध के बावजूद 'सिल्क रोड' बनाने पर अड़ा चीन, दी हिदायत

भारत के विरोध के बावजूद चीन सिल्क रोड बनाने पर अड़ा है। पीओके से होकर पाकिस्तान तक जाने वाले इस प्रोजेक्‍ट पर संयुक्त राष्ट्र की सिक्यूरिटी काउंसिल ने प्रस्ताव रखा कि यह भारत की संप्रभुता के लिए चिंताजनक है। लेकिन चीन अपनी दादागिरी पर झुकने को तैयार नहीं है।

उलट इसके चीन की सरकारी मीडिया ने इस पर अपनी हठ जाहिर करते हुए भारत को ही सकारात्मक सोचने की हिदायत दी है। एचटी की रिपोर्ट के अनुसार, चीनी मीडिया ने लिखा है कि इस प्रोजेक्ट को लेकर भारत को और व्यहारिक सोच अपनाने की जरूरत है क्योंकि इस प्रोजेक्ट के लिए चीनी राष्ट्रपति को वैश्विक समर्थन हासिल है।

उन्होंने लिखा कि यह प्रोजेक्ट राष्‍ट्रपति जिनपिंग का सबसे पसंदीदा प्रोजेक्ट है जो चीन को यूरोप और एशिया के बड़े भाग को रेल मार्ग, हाईवे और पत्‍तनों को एक साथ जोड़ेगा।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुन्यींग ने पत्रकारों को बताया कि 15 मार्च को यूएन की सिक्यूरिटी काउंसिल में 15 सदस्यों ने उनके प्रस्ताव- 2344  को निर्विरोध रूप से मान्यता दे दी है। चीनी प्रवक्ता ने कहा यह प्रोजेक्ट मानवता का साझा भविष्य वाला पहला दुनिया का पहला प्रोजेक्ट है।

बाबरी कमेटी अड़ी: जिलानी ने कहा, स्वामी से नहीं होगी कोई बात

चीन संयुक्त राष्ट्र सदस्यों के साथ सक्रियता से काम करना चाहेगा। उन्होंने कहा इससे मानवमात्र को सुख सुविधा, सार्वभौमिक सुरक्षा, सबकी संपन्नता, स्वच्छता, सुंदरता और सबको को शामिल स्वतंत्रा देने वाला होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:china says will countinue silk road projects after unsc endorsement