Image Loading chief justice ts thakur said people are suffering its a serious problem on demonetization - Hindustan
शनिवार, 25 फरवरी, 2017 | 07:43 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मूली खाने से होते हैं 5 फायदे, ये बीमारियां रहती हैं दूर
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः वृष राशिवालों के लिए बौद्धिक कार्यों से आय के स्रोत विकसित होंगे, नौकरी...
  • Good Morning: यूपी में कागजों में बना 455 करोड़ का दिल्ली-सहारनपुर हाईवे, शरीफ बोले-...

चीफ जस्टिस बोले, नोटबंदी के बाद लोग परेशान हैं, ये बड़ी दिक्कत है

नई दिल्ली, हिन्दुस्तान लाइव First Published:02-12-2016 02:37:50 PMLast Updated:02-12-2016 02:37:50 PM
चीफ जस्टिस बोले, नोटबंदी के बाद लोग परेशान हैं, ये बड़ी दिक्कत है

नोटबंदी के फैसले को कानूनी चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा, लोग वास्तव में पीडि़त हैं। सरकार को इस ओर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कोऑपरेटिव बैंकों को हो रही दिक्कत का भी हवाला दिया। हालांकि मामला सुनवाई के लिए 5 दिसंबर तक स्थगित कर दिया है।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि कोऑपरेटिव बैंक का मामला काफी गंभीर है। सरकार को इस दिशा में जरूर कुछ करना चाहिए अगर संभव हो। इसके अलावा उन्होंने अपनी ये भी कहा कि आम आदमी परेशान हैं और ये काफी गंभीर मामला है।

सरकार ने SC में कहा, 500/1000 की नोटबंदी सही

इससे पहले कल केंद्र सरकार ने कोर्ट में दूसरी बार शपथ पत्र दायर कर इस मामले पर अपनी राय रखी। इसमें कहा गया कि 500 और 1000 के नोट को बंद करने का फैसला कहीं से भी नागरिकों के मौलिक अधिकार का हनन नहीं है। सरकार ने ये भी स्पष्ट किया कि हमने नोटबंदी के अलावा जरूरी प्रतिबंध लगाया है ताकि कालाधन और नकली नोटों की समस्या का रोकथाम हो सके।

अपने जवाब में केंद्र सरकार ने कहा है कि 8 नवंबर को नोटबंदी की अधिसूचना पूरी तरह कानूनी है। अभी की परिस्थिति में लोग अभाव की जिंदगी नहीं जी रहे हैं। वे अभी भी अपने पैसे के इस्तेमाल चेक, ई ट्रांसफर आदि के माध्यम से कर सकते हैं। इसमें ये भी कहा गया है कि अपना पैसा निकालने, बदलने या जमा करने को लेकर वर्तमान में लगाया गया प्रतिबंध सिर्फ वक्त की मांग है यह निश्चित समय सीमा तक ही रहेगा।

इसके अलावा केंद्र सरकार ने 2000 के नोट को लागू करने के निर्णय को भी सही ठहराया। कहा गया है कि इसका निर्णय वर्तमान में लगातार बढ़ रही मुद्रास्फीति और रुपये की गिरती मजबूती को देखते हुए लिया गया है। सरकार ने इस तर्क को सिरे से खारिज कर दिया कि केंद्र सरकार के पास नोटबंदी का अधिकार नहीं है।

नोटबंदी: पीएम मोदी ने कहा, ज्यादा कैश भ्रष्टाचार और काले धन का स्रोत

पेट्रोल पंपों पर आज के बाद फुल #नोटबंदी, पर यहां चलेंगे 500/- के नोट

सरकार की नई तैयारी, आधार कार्ड ही बन जाएगा आपका वॉलेट, जानें कैसे

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: chief justice ts thakur said people are suffering its a serious problem on demonetization
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड