class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षा संस्थानों में नफरत के लिए जगह नहीं: प्रणब मुखर्जी

शिक्षा संस्थानों में नफरत के लिए जगह नहीं: प्रणब मुखर्जी

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा है कि शिक्षा संस्थानों में असहिष्णुता, पक्षपात और नफरत के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। दिल्ली में पिछले दिनों छात्र संगठनों के बीच हुए टकराव के चलते उनका यह बयान अहम माना जा रहा है। 

मुंबई विश्वविद्यालय के विशेष दीक्षांत समारोह में पहुंचे मुखर्जी ने कहा कि उच्च शिक्षा क्षेत्र की देश के राष्ट्रीय विकास के प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका है। लिहाजा शिक्षण संस्थानों को बहुविचारों के सहअस्तित्व के अगुवा के रूप में काम करना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि हमें संकीर्ण मानसिकता और विचारों को पीछे छोड़ते हुए खुलकर बातचीत और बहस को अपनाना चाहिए। मुखर्जी ने कहा कि विश्वविद्यालय और उच्च शिक्षा संस्थान विचारों के मुक्त आदान-प्रदान का सर्वश्रेष्ठ मंच हैं। राष्ट्रपति ने संसद में अकसर होने वाले व्यवधान पर भी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि उनके लिए लोकतंत्र के मूलभूत स्तंभ को निष्प्रभावी होते देखना मुश्किल है।

पीएम मोदी की प्रशंसा

राष्ट्रपति ने यूपी-उत्तराखंड में जीत के बाद पीएम मोदी के भाषण की प्रशंसा की। उन्होंने कहा, संसदीय लोकतंत्र में सभी को साथ लेकर चलने की जरूरत है। पीएम ने भाषण में कहा था कि जिन्होंने वोट दिया या नहीं दिया, सरकार सभी की होगी और सभी का ख्याल रखेगी। 

प्रभावित हूं: प्रणब ने कहा कि मैं पीएम मोदी के स्पष्ट रुख, ऊर्जा और कड़ी मेहनत करने की क्षमता से भी बहुत प्रभावित हुआ हूं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: pranab mukherjee praises narendra modi