Image Loading a trip to forest - Hindustan
गुरुवार, 23 फरवरी, 2017 | 10:31 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों के लिए सुबह नौ बजे तक 10.23% मतदान, पल-पल की अपेडट के...
  • शेयर मार्केटः मजबूती के साथ खुले बाजार, 48 अंकों की तेजी के साथ सेंसेक्स 28,912 पर,...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया का टॉस जीत बल्लेबाजी का फैसला
  • शोपियां में आतंकी हमला, सेना के 3 जवान शहीद, 1 महिला की भी मौत। पूरी खबर पढ़ने के...
  • आज के 'हिन्दुस्तान' में पढ़ें बिमटेक के डायरेक्टर हरिवंश चतुर्वेदी का लेखः...
  • दिल और दिमाग दोनों को ठंडा रखता है कद्दू, पढ़ें इससे होने वाले 6 फायदे
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः वृश्चिक राशिवालों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, मित्र के सहयोग से...
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों पर मतदान शुरू, 680 उम्मीदवार आजमा रहे हैं किस्मत

पढ़ें ये मजेदार कहानी: जंगल की सैर

फीचर डेस्क First Published:17-02-2017 01:36:04 PMLast Updated:17-02-2017 05:15:34 PM
पढ़ें ये मजेदार कहानी: जंगल की सैर

एक बार राजा कृष्णदेव ने तेनालीराम से कहा, ‘‘आज की शाम हम तुम्हारे साथ जंगल घूमने चलेंगे।’’

तेनालीराम ने उत्तर दिया, ‘‘महाराज, पर एक निवेदन है कि हम आज घोड़ों पर बैठकर जंगल की सैर करें तो ज्यादा मजा आएगा।’’ राजा कृष्णदेव ने हंसकर तेनालीराम की बात मान ली।

राजा कृष्णदेव ने अपना सबसे कीमती और तेज घोड़ा कसवाया और सैर के लिए तैयार हो गए। थोड़ी देर में तेनालीराम भी एक मरियल से टट्टू पर सवार होकर महल के द्वार पर आ पहुंचे।

टट्टू को देखकर राजा कृष्णदेव बोले, ‘‘यह क्या मरियल सा टट्टू ले आए। यह तो तुम्हें जंगल की बजाय सीधे स्वर्गलोक की सैर कराएगा।’’

तेनालीराम ने हाथ जोड़कर कहा, ‘‘महाराज, जो काम यह टट्टू कर सकता है, आपका घोड़ा कभी नहीं कर सकता।’’ राजा कृष्णदेव बोले,‘‘सौ-सौ स्वर्ण मोहरों की शर्त रही।’’

जब वे जंगल के बीचोबीच पहुंचे। तेनालीराम ने अपने टट्टू को कसकर चाबुक लगाए। वह हिनहिनाता हुआ भागा और जंगल में गायब हो गया।

तेनालीराम ने हाथ जोड़कर कहा, ‘‘महाराज, यही तो मेरे टट्टू का कमाल था। अब आप भी अपने घोड़े का यही कमाल दिखलाइए।’’

राजा कृष्णदेव अपना कीमती घोड़ा जंगल में कैसे छोड़ सकते थे? उन्होंने ना की तो तेनालीराम ने कहा, ‘‘तब फिर महाराज, सोने की सौ मोहरें लाइए। आप शर्त हार गए।’’

अब राजा कृष्णदेव तेनालीराम की चाल समझ चुके थे, उन्होंने झेंपते हुए अपनी हार मान ली। तेनालीराम ने कहा, ‘‘महाराज, कोई भी चीज बेकार नहीं होती। चतुर आदमी मिट्टी को भी सोना बना देते हैं।’’

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: a trip to forest
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड