Image Loading may be your pillow is cause of your health problem - Hindustan
मंगलवार, 22 अगस्त, 2017 | 12:42 | UTC
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...

कहीं आपकी बीमारी की वजह आपका तकिया तो नहीं?, जानें चौंकाने वाले फैक्ट

लंदन, एजेंसी First Published:16-02-2017 01:15:56 PMLast Updated:16-02-2017 04:04:50 PM
कहीं आपकी बीमारी की वजह आपका तकिया तो नहीं?, जानें चौंकाने वाले फैक्ट

सुबह जागने के बाद अपनी चादर और तकिया का लिहाफ बदलकर आप सोच रहे हैं कि आपका निजी स्वच्छता अभियान पूरा हो गया है तो आप गलत हैं। स्वच्छता विशेषज्ञों का दावा है कि आपकी तकिया कई तरह के संक्रमण का घर होता है। लिहाजा सेहत की खैरियत चाहते हैं तो अपने तकिये को हर दो साल में बदलने की आदत डाल लें।

ब्रिटेन स्थित संस्था द हाइजीन डॉक्टर की लीसा एकर्ले का कहना है कि आपके तकिये में संक्रमण के इतने कारण मौजूद होते हैं कि इन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। लीसा की मानें तो दो साल में आपके तकिये के 10 फीसदी वजन में धूल के कण और त्वचा की मृत कोशिकाएं हो जाती हैं।

हर रोज हमारे शरीर से लाखों की संख्या में त्वचा की मृत कोशिकाएं निकलती हैं। इनमें से बहुत सी कोशिकाएं तकिये पर ही रह जाती हैं, क्योंकि हम दिन के कई घंटे इन पर सोकर बिताते हैं। तकिये में बैठे धूल के कण संक्रमण का कारण बनते हैं और अस्थमा के मरीजों की तकलीफ बढ़ाने का काम करते हैं। कई बार लकड़ी के पलंग में घुन की मौजूदगी भी परेशानी बढ़ाने का काम करती है।

लीसा का कहना है कि हमें एलर्जी घुन से नहीं, उनके द्वारा छोड़ी जाने वाली गंदगी के कारण होती है। इनके कारण अस्थमा, नजला, आंखों में जलन, आंखों से पानी आना और कफ की गंभीर समस्या हो सकती है।

लीसा का कहना है कि सफाई को लेकर हम पूरी तरह आश्वस्त तो नहीं हो सकते हैं, लेकिन हम अपनी तसल्ली के लिए सावधानी तो बरत ही सकते हैं। घर में बच्चों और बुजुर्गो को संक्रमण जल्दी होता है, इसलिए उनके सोने की जगह का ध्यान रखना सबसे ज्यादा जरूरी होता है।

तकिये की गंदगी से कैसे निपटें-

1- अस्थमा, नजला, आंखों में जलन, आंखों से पानी आना और कफ हो सकता है

2- घर के अंदर का तापमान ठंडा रखें

3- वैक्यूम क्लीनर से सफाई करें इससे धूल के कण उड़कर तकिया पर नहीं आएंगे

4- लकड़ी के पलंग में घुन की मौजूदगी भी परेशानी बढ़ाने का काम करती है

तकिया बदलना जरूरी

सुबह चादर हटाने के कुछ देर बाद नई चादर बिछाएं, इससे सूक्ष्म जीवाणु गर्माहट पाकर वापस नहीं पनपेंगे
तकिया धोकर मशीन के ड्रायर में सुखाएं। ड्रायर की गर्माहट से सूक्ष्म जीवाणु खत्म हो जाते हैं

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: may be your pillow is cause of your health problem
 
 
 
 
From around the Web
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड