class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भनिरोधक गोलियों का मानसिक सेहत पर असर, अवसाद का खतरा

गर्भनिरोधक गोलियों का मानसिक सेहत पर असर, अवसाद का खतरा

गर्भनिरोधक गोलियां मानसिक और शारीरिक सेहत को प्रभावित करती हैं। इनका सेवन निराशा की ओर ले जाता है और सक्रियता को कम करता है। इससे आत्मनियंत्रण भी कम हो जाता है। एक नए अध्ययन में वैज्ञानिकों ने यह बताया है। 

स्टॉकहोम के करोलिंस्का इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं की टीम ने 18 से 35 साल की 340 महिलाओं पर तीन महीने के लिए परीक्षण किया। इसमें कुछ को महिलाओं को असली गर्भनिरोधक गोलियां दीं और कुछ को नकली। असली गर्भनिरोधक गोलियां लेने वाली महिलाओं में निराशा और सक्रियता का स्तर कम देखने को मिला। 

शोधकर्ता प्रो. एंजेलिका लिंड ने कहा, परीक्षण में ज्यादातर गोलियों में लिवोनोरजेस्ट्रेल, सिंथेटिक एस्ट्रोजेन और एथिनीलएस्टाडियॉल मिला। गर्भनिरोधक गोलियों का असर जीवन और अवसाद की गुणवत्ता पर पड़ता है। अभी इसके और अध्ययन की आवश्यकता है। 

जंक फूड खाने से बढ़ता है जोड़ों के दर्द का खतरा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:contraceptive pills affect mental health