Image Loading pension arrears and service manual for the wandering accountant - LiveHindustan.com
मंगलवार, 06 दिसम्बर, 2016 | 06:16 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • तमिलानाडु: पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
  • पीएम मोदी ने जयललिता के निधन पर दुख जताया, कहा- देश की राजनीति में बड़ी क्षति
  • तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का निधन
  • दिल्ली: आईजीआई एयरपोर्ट के टी-3 की पार्किंग के वाशरूम में 12 जिंदा कारतूस मिले
  • बहते मिले लाखों रुपये के नोट तो नहर में यूं कूद पड़े लोग, क्लिक कर देखें वीडियो
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'

पेंशन, एरियर व सेवा पुस्तिका के लिए भटक रहे लेखपाल

लखनऊ, हिन्दुस्तान टीम First Published:19-10-2016 10:10:22 PMLast Updated:19-10-2016 10:10:22 PM

राजधानी में 2005 में भर्ती हुए करीब 40 लेखपालों की तनख्वाह से हर माह सीपीएफ (कॉन्ट्रीब्यूटरी प्राविडेंट फंड) के लिए 10 प्रतिशत पैसा कटता तो जरूर है लेकिन यह कहां जमा हो रहा है, कितना है इसकी कोई भी जानकारी लेखपालों के पास नहीं है। बीते दस वर्षों से नई पेंशन योजना के तहत सीपीएफ की पासबुक इन लेखपालों को आज तक नहीं मिली है। यहीं नहीं आधा दर्जन रिटायर लेखपाल बीते छह महीने से पेंशन के लिए मारे- मारे घूम रहे हैं।

सेवा पुस्तिकाएं, जीपीएफ व एरियर जैसी समस्याएं जस की तस बनी हुई हैं। लेखपाल संघ के जिलाध्यक्ष सुशील शुक्ला बताते हैं कि सीपीएफ पास बुक बनाई ही नहीं गई है। यही वजह ही लेखपालों के पास भविष्य में काम आने वाले पैसे का कोई हिसाब-किताब नहीं है। लेखपाल संघ ने बुधवार को इन सभी समस्याओं से प्रशासन अवगत कराया।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: pension arrears and service manual for the wandering accountant
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड