class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जवाहर भवन के छठे तल में आग से हड़कंप

जवाहर भवन के छठे तल पर शुक्रवार दोपहर आग लगने से हड़कंप मच गया। आग लगने की सूचना पर कर्मचारी कार्यालय से निकलकर बिल्डिंग के बाहर आ गये। आग एसी के कंट्रोल रूम में लगी थी। कर्मचारियों के सूचना देने पर सुरक्षा में लगे स्टाफ ने आग पर नियंत्रण पाया।

पूरे भवन की बिजली काटनी पड़ी
फायर ब्रिगेड को सूचना देने पर दमकल वाहन पहुंचा  लेकिन भवन के बाहर खड़े वाहनों और अतिक्रमण की वजह से वह अंदर नहीं आ पाया। हजरतगंज पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। आग लगने पर पूरे भवन की लाइट काट दी गई। काफी देर तक बिजली नहीं रहने से कामकाज प्रभावित रहा। कर्मचारी नेता सुशील कुमार बच्चा और रामकुमार धानुक ने बताया कि जवाहर भवन में सेंट्रल एसी लगा होने के बाद भी अधिकारियों ने प्राइवेट एसी लगवा रखा है, जिसके कारण बिजली का दबाव बहुत बढ़ जाता है। इसी कारण से आग लगी है। आग लगने पर अलार्म भी नहीं बजा, जिसको देख कर लगता है कि वो भी खराब पड़ा है। उन्होंने कहा कि कई बार अग्निशमन व्यवस्था ठीक करवाने की मांग की गई लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती है।

नहीं टला है जवाहर व इंदिराभवन से आग का खतरा
यहां 10 केवी की वायरिंग पर 50 केवी बिजली का भार है। व्यवस्थित वायरिंग का अभाव है। सेंट्रल एसी होने के बावजूद पूरे भवन के विभिन्न तलों पर 10-10 एसी चल रहे हैं। एक बार नहीं कभी-कभी तो दिन में कई बार विभिन्न तलों से शार्ट-सर्किट की सूचना लोक निर्माण विभाग के मेंटेनेंस अधिकारियों के लिए आफत बन जाती है। मिनी सचिवालय कहे जाने वाले जवाहर भवन में शुक्रवार को लगी आग का भी यही कारण था।

निजी एसी से बढ़ रहा लोड
लोक निर्माण विभाग के कार्य अधीक्षक विद्युत एके सिन्हा बताते हैं कि उनको भवन में मंडरा रहे खतरे का अंदाजा है। यही कारण है कि उन्होंने कई बार भवन के प्रत्येक तल पर अतिरिक्त एसी और कम्प्यूटर लगाने वाले अधिकारियों को सचेत भी किया लेकिन उनकी बातों को नजरअंदाज करते हुए जवाहर भवन में बड़ी संख्या में निजी एसी लगाकर विद्युत का भार बढ़ाया जा रहा है। जवाहर भवन में ही नहीं इंदिरा भवन में भी अधिकारियों ने अपने कमरों में निजी एसी लगा लिये हैं। खुद की वायरिंग करा कर बिल्डिंग के सिस्टम से जोड़ कर उस पर भार बढ़ा दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fire at the sixth floor of jawahar bhawan