Image Loading dr - Hindustan
मंगलवार, 17 जनवरी, 2017 | 14:24 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पंजाब विधानसभा चुनावः कांग्रेस नेता कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने पटियाला से...
  • बसपा से निष्कासित विधायक अमर पाल शर्मा कांग्रेस में हुए शामिल।
  • 2nd ODI: शादी के कारण टीम इंडिया को नहीं मिला होटल, पुणे में ही कर रही है प्रैक्टिस
  • शीला दीक्षित ने कहा, अगर कांग्रेस और सपा में गठबंधन होता है तो मैं मुख्यमंत्री...
  • यूपी में पहले चरण की 73 सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया आज से शुरू
  • शेयर बाजारः शुरुआती कारोबार में तेजी, 83 अंकों की बढ़त के साथ सेंसेक्स 27371 पर,...
  • पढ़ें पूर्व आईपीएस अधिकारी विभूति नारायण राय का ब्लॉग- रोटी, छुट्टी और चिट्ठी से...
  • मौसम अलर्टः बर्फीली हवाओं के कारण गिरा दिल्ली-NCR का पारा, न्यूनतम तापमान 5 डिग्री,...
  • राशिफलः मीन राशिवालों के पैतृक कारोबार का विस्तार हो सकता है, यात्रा लाभप्रद...
  • हल्दी-तेल का करेंगे इस्तेमाल तो इन 5 बीमारियों से रह सकते हैं दूर
  • GOOD MORNING: अखिलेश को सपा और 'साइकिल' दोनों मिली, ATM से नकद निकासी की सीमा बढ़ी।...

जिन्दगी भर मरीजों की सेवा की अब पेंशन के लिए भटक रहे डॉक्टर

लखनऊ। कार्यालय संवाददाता First Published:19-10-2016 06:37:42 PMLast Updated:19-10-2016 06:40:21 PM

आयुर्वेद और होम्योपैथिक विभाग से रिटायर करीब 300 डॉक्टर पेंशन से महरूम हैं। असल में ये डॉक्टर विभाग में नौकरी से 10 से 15 साल तक की। लेकिन नियमित काफी देर में हुए। शासनादेश के अनुसार 10 साल नियमित पद पर तैनाती वाले डॉक्टरों को पेंशन देने का प्रावधान किया गया है। नतीजतन डॉक्टर पेंशन के लिए भटक रहे हैं। उनकी कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही है।

आयुर्वेद, होम्योपैथिक में 1992 से 1998 के बीच काफी संख्या में डॉक्टर और शिक्षकों की संविदा पर तैनाती हुई। काफी जद्दोजहद के बाद 2005 व उसके बाद काफी डॉक्टर नियमित हुए। इनमें करीब 300 ऐसे डॉक्टर हैं जिनका पक्की नौकरी का कार्यकाल 10 साल से कम का है। अब वे भी रिटायर हो चुके हैं। शासनादेश के मुताबिक 10 साल पक्की नौकरी करने वालों को ही पेंशन का अधिकार है। ऐसे में देरी से नौकरी पक्की होने का खामियाजा डॉक्टरों को भुगतना पड़ रहा है। डॉक्टर कोर्ट कचहरी के चक्कर काटने को मजबूर हैं।

आयुर्वेद विभाग से रिटायर डॉ. राधेश्याम शुक्ला ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर कई ऐसे डॉक्टरों को पेंशन मिल गई जिनकी नौकरी सात से आठ साल पुरानी है। सरकार इस नियम को खत्म करे। ताकि सभी डॉक्टरों को पेंशन का फायदा मिल सके। होम्योपैथ विभाग से रिटायर डॉ. रामचन्द्र शर्मा के मुताबकि पेंशन का अधिकार सभी राजकीय कर्मचारियों को है। इसमें 10 साल की पक्की नौकरी करने वालों को ही फायदा देना गलत है। होम्योपैथ व आयुर्वेद विभाग में लंबे समय से संविदा पर नौकरी कर रिटायर हुए। नियमितीकरण में देरी हुई। इसमें डॉक्टरों का क्या दोष? लिहाजा पेंशन के लाभ से किसी को वंचित नहीं किया जाना चाहिए।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: dr
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड