class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार ने सभी बड़े-छोटे अस्पतालों में डेंगू मरीजों के लिए आरक्षित किए बेड

प्रमुख संवाददाता / राज्य मुख्यालयबेकाबू डेंगू से निपटने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी अस्पतालों में डेंगू के मरीजों के लिए बेड आरक्षित कर दिए हैं। अब सभी बड़े चिकित्सालयों में 50, जिला चिकित्सालयों में 25 और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में 25 बेड डेंगू, चिकनगुनिया और बुखार से ग्रसित मरीजों के लिए आरक्षित कर दिए गए हैं। सरकार राज्य में डेंगू के प्रसार के कारणों की भी जांच कराएगी। यह जानकारी देते हुए चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डा.शिवाकान्त ओझा ने जांच में दोषी अफसरों और कर्मियों को बख्शा नहीं जाएगा। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया है, जो नियमित रूप से डेंगू, चिकनगुनिया व बुखार के मरीजों की मॉनीटरिंग करेगी। इन रोगों के मरीजों का अस्पतालों में समुचित इलाज दिलाने के लिए भी यह समिति जिम्मेदार होगी। इसके साथ ही अस्पतालों में दवाइयों की बराबर उपलब्धता बनी रहे। मरीज को बाहर से दवाइयां न खरीदनी पड़ें, इसके लिए भी समिति जिम्मेदार होगी। उन्होंने बताया कि गुरुवार को उन्होंने स्वयं इस सिलसिले में एक बैठक बुलाई है, जिसमें डेंगू की रोकथाम के लिए की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा की जाएगी। साथ ही प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य रोज इन व्यवस्थाओं की समीक्षा करेंगे। डा. ओझा ने बताया कि डेंगू, चिकनगुनिया और बुखार आदि की जांच निशुल्क करने की सरकार ने व्यवस्था की है। डाक्टर अस्पतालों में ही इनकी जांच कराएंगे और मरीजों के इलाज में कोई कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी बताया कि मलेरिया विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि सभी क्षेत्रों में एन्टीलार्वा के छिड़काव की व्यवस्था की जाए। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि नगर निकायों के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर छिड़काव की व्यवस्था की जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Reserved Bed in hospitals for Dengue