class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कड़े सुरक्षा बंदोबस्त के बीच शुरू हुई पॉलीटेक्निक परीक्षा

पहले दिन कोई भी नकलची नहीं पकड़ा गया, शांतिपूर्वक चली परीक्षालखनऊ। निज संवाददाताकड़े सुरक्षा बंदोबस्त के बीच प्रदेश में पॉलीटेक्निक की परीक्षाएं शुरू हो गई हैं। राजधानी लखनऊ में भी सभी 20 केन्द्रों पर शांतिपूर्वक परीक्षा हुई। किसी भी परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थियों को मोबाइल फोन सहित अन्य किसी भी इलेक्ट्रानिक डिवाइस को नहीं ले जाने दिया गया। इसमें सम-सेमेस्टर परीक्षा के अलावा वार्षिक परीक्षा, बैक पेपर, स्पेशल बैक पेपर और मल्टी प्वाइंट एंट्री एण्ड क्रेडिट सिस्टम परीक्षा हो रही है। सुबह पहली पॉली 9 से 11.30 बजे गणित के विषय की परीक्षा सम्पन्न हुई। शहर में करीब 20 राजकीय, सहायता प्राप्त और निजी पॉलीटेक्निक को परीक्षा केन्द्र बनाया गया था। इसमें लगभग 10 हजार परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। परीक्षार्थियों की परीक्षा कक्ष में जाने से पहले गहन तलाशी ली गई। उन्हें केवल पेन, पेंसिल, पटरी और स्केच पेन के अलावा कुछ भी नहीं ले जाने दिया गया। राजकीय पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य राजन सिंह, राजकीय महिला पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य अशरफ अली और हीवेट पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य यूसी बाजपेयी ने बताया कि उनके संस्थानों में परीक्षा पूरी तरह से नकल विहीन रही है। किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई। प्रवेश पत्र को लेकर परेशानी न होने का दावाराजकीय महिला पॉलीटेक्निक के प्रधानाचार्य अशरफ अली के बताया कि उनके संस्थान में मल्टी पॉइंट क्रेडिट के परीक्षार्थी अधिक थे। प्रवेश पत्र को लेकर कोई समस्या नहीं आई है,क्योंकि बोर्ड द्वारा एक दिन पूर्व वेबसाइट का दूसरा लिंक दिए जाने से अधिकांश परीक्षार्थी को प्रवेश पत्र मिल गए थे। जिनको नहीं प्राप्त हुए थे। उन्हें परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा से पहले दे दिया गया। बोर्ड के सचिव एसके सिंह ने बताया कि प्रदेश में 141 निजी पॉलीटेक्निक व 110 सरकारी व सहायता प्राप्त पॉलीटेक्निक को केन्द्र बनाया गया है। उन्होंने बताया कि इस बार नकल करते या कराने और इसके लिए मोबाइल के प्रयोग करने पर प्राथमिकी दर्ज कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। पूरे प्रदेश में करीब 70 हजार परीक्षार्थी पहले दिन परीक्षा में शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Polytechnic examination started between tough security settlement