class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहराइच में किराना व्यवसायी की गला घोंटकर हत्या

बहराइच में किराना व्यवसायी की गला घोंटकर हत्या

वारदात

रात में घर न पहुंचने पर परिजन कर रहे थे तलाश, लाश के समीप पड़ी थी बाइक

शुक्रवार की शाम बाइक से निकला था युवक

गोण्डा हाईवे पर शनिवार सुबह मिला शव

फोटो फाइल नम्बर 20 बीएएचपीआईसी 04 व 08

कैप्सन- आशीष कुमार जायसवाल (फाइल फोटो), मृतक के घर के सामने गमगीन मुद्रा में बैठे लोग

बहराइच। हिन्दुस्तान संवाद

बहराइच-गोंडा हाईवे पर शनिवार की सुबह कोरेमऊ गांव के पास एक युवक की लाश मिली। लाश के समीप बाइक पड़ी थी। जिसपर पत्रकार लिखा था। पांच घंटे बाद मृतक की पहचान उसके चाचा ने की। एसपी सुनील कुमार सक्सेना, एएसपी दिनेश त्रिपाठी ने वारदात स्थल का दौरा कर तहकीकात की।

देहात कोतवाली के बहराइच-गोंडा हाईवे पर शनिवार की सुबह लगभग सात बजे राहगीरों ने कोरेमऊ गांव के समीप एक युवक की लाश पड़ी देखी। लाश से कुछ दूरी पर एक बाइक पड़ी हुई थी। जिस पर पत्रकार लिखा था। इसकी जानकारी किसी ने पुलिस को दी। देहात कोतवाल आरपी यादव, एसआई अजय कुमार तिवारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। लाश की तलाशी लिए जाने पर आईडी मिली। जिसमें आशीष कुमार जायसवाल लिखा था।

शव की पहचान कराने का प्रयास किया गया। बाइक पर पत्रकार लिखा होने से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। इसी दौरान पुलिस अधीक्षक, एएसपी, सीओ सिटी विजय शंकर मिश्र फोरेंसिक टीम के साथ भी मौके पर पहुंचे। शव की शिनाख्त न होने पर लाश मर्च्युरी भेजी गई। दोपहर लगभग 12 बजे दरगाह थाने के बख्शीपुरा नई बस्ती चुंगी नाका निवासी छोटे लाल ने मृतक की पहचान अपने भतीजे 35 वर्षीय आशीष कुमार जायसवाल पुत्र मदन लाल के रूप में की। छोटेलाल ने बताया कि उसका भतीजा चुंगी नाके पर किराने की दुकान करता था। शुक्रवार की शाम वह बाइक से कहीं गया था। जब रात 11 बजे तक नहीं लौटा, तो उसकी तलाश शुरू हुई।

देहात कोतवाल ने बताया कि गला घोंटकर हत्या की आशंका जताई जा रही है। एसपी सुनील कुमार सक्सेना ने बताया की छोटे लाल की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या की धारा में केस दर्ज किया गया है। किसी को नामजद नहीं कराया गया है।

:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

पति की हत्या से सदमे में पहुंची दीपमाला

बहराइच। दरगाह थाने के नई बस्ती बख्शीपुरा चुंगी नाका निवासी आशीष कुमार जायसवाल के हत्या की गुत्थी उलझकर रह गई है। पति की हत्या की जानकारी मिलते ही पत्नी दीपमाला सदमे में चली गई। आशीष किराने की दुकान करता था। लगभग डेढ़ वर्ष से वह शौकिया तौर पर एक साप्ताहिक अखबार के लिए भी कवरेज करता था। उसकी आस-पास किसी से भी दुश्मनी नहीं थी। उसके पिता की आठ वर्ष पूर्व व मां की दो वर्ष पूर्व मौत हो चुकी थी। परिवार में पत्नी के अलावा 10 वर्षीय बेटा वैभव व आठ वर्षीय वीरू हैं। कातिलों ने जहां दीपमाला के मांग का सिंदूर उजाड़ दिया है। वहीं दो बालकों के सिर से पिता का साया छीन लिया है। लोग हैरत में हैं कि आशीष की हत्या किसने की, उसकी तो किसी से दुश्मनी भी नहीं थी। बताया जा रहा है कि शुक्रवार की रात में जब वह आठ बजे घर से निकला था तो काफी प्रसन्न था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Murder of grocery practitioner in Bahraich