class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन माह से आईएएस अनुराग को मिल रही थी जानमाल की धमकी

तीन माह से आईएएस अनुराग को मिल रही थी धमकी

आईएएस मौत प्रकरण

बड़े भाई को एसएमएस भेजकर मांगी थी सलाह, साजिश का था अंदेशा

कैडर बदलने या फिर नौकरी छोड़ने की थी तैयारी, जनवरी से नहीं मिला था वेतन

फोटो फाइल नम्बर 20 बीएएचपीआईसी 15 स्व.अनुराग तिवारी आईएएस फाइल फोटो)

फोटो फाइल नम्बर 20 बीएएचपीआईसी 16 मंझले भाई मयंक तिवारी

बहराइच। अजय त्रिपाठी

लखनऊ में स्टेट गेस्ट हाउस के निकट पिछले बुधवार को सड़क पर मृत पाए गए बहराइच शहर निवासी कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी पिछले तीन माह से धमकाए जा रहे थे। उन्होंने अपने बड़े भाई आलोक तिवारी तथा मयंक तिवारी को एसएमएस भेजकर अलर्ट करते हुए सलाह मांगी थी। उन्हें किसी गहरी साजिश का अंदेशा था। वह कैडर बदलने या फिर नौकरी छोड़ने की तैयारी कर रहे थे। उन्हें जनवरी से वेतन भी नहीं मिल रहा था।

2007 बैच के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी अपने सेवाकाल में विशेष कार्य शैली के लिए जाने जाते थे। वह कर्नाटक प्रान्त के बीदर व शिमोगा समेत चार जिलों के जिलाधिकारी रहे। बीदर में उन्होंने कुंओं और तालाबों को रिचार्ज कराकर वहां के लोगों की पेयजल समस्या को दूर कर वाटर मैन के रूप में चर्चित हुए थे। बड़े भाई आलोक तिवारी तथा मयंक तिवारी ने 'हिन्दुस्तान' को बताया कि अनुराग तिवारी जब फूड एंड कंज्यूमर्स डिपार्टमेंट में कमिश्नर के पद पर तैनात हुए तो उन्होंने करोड़ों का घोटाला पकड़ा। उसके बाद उन पर दबाव बढ़ने लगा।

पहले उन्हें प्रलोभन दिया गया लेकिन जब वह नहीं माने तो विभागीय उत्पीड़न और धमकी का सिलसिला शुरू हो गया। इसके तहत जनवरी से उनका वेतन भी रोक दिया गया। इस बीच उन्हें साजिश का अंदेशा हुआ तो उन्होंने अपने दोनों बड़े भाइयों से कहा कि वह भी होशियार रहें। वह यहां से हटने की सोंच रहे हैं। परिवार के लोगों का कहना है कि वह विकल्प के रूप में कर्नाटक कैडर के अलावा किसी और प्रान्त का कैडर चाहते थे। अनुराग इस बात से दुखी थे कि घोटाला पकड़ने के बाद जिन्हें उनका उत्साहवर्धन करना चाहिए वह उन्हेंं हतोत्साहित कर रहे हैं। अनुराग के लिए यह काफी पीड़ादायक था। इसके बाद उनकी कर्नाटक और वहां की आईएएस की नौकरी से अरुचि होने लगी थी।

इनसेट---------

25 मार्च को अनुराग के मैसेज की पंक्तियां

भैया, दानेश (अनुराग का निजी सर्वेंट) रीच्ड सेफली टुडे, आई वाज थिंकिंग, दैट सिन्स आईएम कमिंग टू नार्थ इन फ्यू डेज़, एण्ड सिन्स बहराइच सिचुएशन हैज ड्रेसटिकली इम्प्रूव्ड, एण्ड आलसो सिचुएशन इन बंगलौर इज नाट गुड दीज़ डेज (ऑन गोइंग पॉलिटिकल एण्ड ब्यूक्रेटिक टसल्स), कैन वी रीकनसीडर परेंट्स ट्रेवेल टू बंगलौर? प्लीज एडवाइज। ये मैसेज अनुराग ने अपने बड़े भाई आलोक तिवारी को भेजा था।

इनसेट---

बड़े भाई आलोक की सूचना पर मयंक की टिप्पणी

बहराइच। अनुराग ने जब अपने बड़े भाई आलोक को मैसेज भेजा तो दूसरे नम्बर के मयंक ने अपने दोस्त राकेश से 27 मार्च को ये मैसेज शेयर किया कि यार उस दिन बड़े भैया ने टेंशन दे दी कि अनुराग के ऊपर लाइफ थ्रेट है। इस पर राकेश का एसएमएस है कि अरे ऐसा कैसे लगा उनको--- कोई बात हुई है क्या, आप अनुराग से बात कर लीजिए एक बार...

इनसेट---

अधिवक्ता विचार मंच ने उठायी निष्पक्ष जांच की मांग

बहराइच। अधिवक्ता विचार मंच की एक बैठक शनिवार को सिविल कोर्ट परिसर में हुई। बैठक की अध्यक्षता मंच के संरक्षक विजय कुमार कालिया ने की। उन्होंने बहराइच के गौरव अनुराग की मौत को जघन्य हत्या बताते हुए अपने विचार प्रस्तुत किए।

मंच के अध्यक्ष भगवान बख्श सिंह सेंगर ने कहा कि अनुराग तिवारी होनहार आईएएस अधिकारी थे। उनकी नृशंस हत्या भ्रष्ट नौकरशाह, भ्रष्ट राजनेता, भ्रष्ट कारपोरेट सत्ता के स्थायी दलाल अपराधियों द्वारा षड़यंत्र करके करायी गयी। उन्होंने कहा कि चूंकि उन्होंने अपने विभाग के हजारों करोड़ घोटाले की फाइलें तैयार की थीं। उन अपराधियों के तार पूरे देश में फैले हैं। इसलिए जब तक सीबीआई जांच हाई कोर्ट की देखरेख में नहीं होगी तब तक अपराधियों का पता नहीं चल पाएगा।

मंच के महामंत्री रामजी वाजपेयी, कन्हैया सिंह तोमर, प्रमोद सिंह चौहान, विजय कुमार यादव, संजीव कुमार श्रीवास्तव, अनिल कुमार सिंह, अनिल कुमार मिश्र, एहतिशाम हैदर जाफरी, जेबी सिंह, रामसूरत वर्मा, अरविन्द शर्मा, अनिल त्रिपाठी तथा योगेश शुक्ल ने भी घटना को लेकर आक्रोश व्यक्त किया। अन्त में दिवंगत आईएएस की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:IAS Anurag was getting the threat for life for three months