class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिकित्सक की अभद्रता पर शिक्षक को हार्टअटैक, मौत पर किया हंगामा

चिकित्सक ने की अभद्रता, शिक्षक की मौत, साथी शिक्षकों ने किया हंगामा

आरोप

सिरसिया बीआरसी केंद्र में स्वास्थ्य विभाग ने शिक्षकों की बुलाई थी बैठक

डा. के खिलाफ बोलते समय गश खाकर गिरा शिक्षक

15 मिनट तक तड़पने के बाद भी चिकित्सक ने नहीं ली शिक्षक की सुधि

देर शाम तक सिरसिया थाने के सामने शव रखकर प्रदर्शन करते रहे शिक्षक

सिरसिया में शिक्षक की मौत से देर शाम तक होता रहा हंगामा, चिकित्सक पर हत्या का मामला दर्ज करने की मांग

19 एसआरए पीआईसी 10- सिरसिया थाने के सामने सड़क जाम करते शिक्षक 19 एसआरए पीआईसी 11- शिक्षकों को मनाते एएसपी वीपी सिंह

गुलरा(श्रावस्ती)। हिन्दुस्तान संवाद

शुक्रवार को सिरसिया बीआरसी केंद्र पर आयोजित बैठक में चिकित्सक की अभद्रता पर एक शिक्षक को हार्टअटैक पड़ गया। करीब 15 मिनट तक शिक्षक तड़पता रहा और साथी शिक्षक डा. से इलाज के लिए मनुहार करते रहे। इसके बाद भी चिकित्सक का दिल नहीं पसीजा। साथी शिक्षकों ने उसे आनन-फानन में सीएचसी पहुंचाया, जहां उसकी मौत हो गई। इससे नाराज शिक्षकों ने सिरसिया थाने के सामने शव रखकर देर शाम तक प्रदर्शन जारी रखा। शिक्षकों को मनाने के लिए पुलिस व शिक्षा विभाग के अधिकारी कैंप कर रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने जेई रोग की रोकथाम के लिए शुक्रवार को विकास क्षेत्र सिरसिया के बीआरसी केंद्र में शिक्षकों की बैठक बुलाई थी। बैठक में अव्यवस्था पाए जाने पर शिक्षक भड़क गए और प्रशिक्षण की जिम्मेदार संभाले सीएचसी के चिकित्सक डा. महताब आलम से विरोध जताया। इस पर डा. महताब आलम ने शिक्षकों के साथ अभद्रता की। इसका विरोध करने के लिए टंगपसरी उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधान शिक्षक सूर्य कुमार पाठक खड़े हुए तो चिकित्सक ने उनको नकारा कह दिया।

बताया जाता है कि इस पर श्री पाठक गश खाकर गिर गए। साथी शिक्षकों ने चिकित्सक से इलाज करने के लिए कहा। लेकिन चिकित्सक ने बीमार शिक्षक को नजदीक जाकर देखना तक मुनासिब नहीं समझा। इस पर शिक्षक को लेकर साथी सीएचसी गए जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। इस पर शिक्षकों ने हंगामा शुरु कर दिया। मृत शिक्षक सूर्य कुमार पाठक का शव सिरसिया थाने के सामने रखकर शिक्षकों ने पूरी तरह से जाम लगा दिया। नाराज शिक्षकों को मनाने के लिए जिला बेसिक शिक्षाधिकारी दीपिका चतुर्वेदी और एएसपी वीपी सिंह मौके पर मौजूद रहे। लेकिन शिक्षक देर शाम तक हंगामा करते रहे।

पुलिस अधीक्षक डा. मुनीर अहमद ने बताया कि शिक्षकों ने मामले को मतलब से ज्यादा तूल दे दिया है। अस्पताल लाए जाने तक शिक्षक की मौत हो गई थी। उधर शिक्षकों की मांग थी कि आरोपी डा. पर हत्या का मामला दर्ज करते हुए चिकित्सक को निलंबित किया जाए तथा पीड़ित परिवार को 20 लाख रुपए मुआवजा दिया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:HartAtack to the teacher on abusive of doctor, commute on death