बुधवार, 05 अगस्त, 2015 | 18:00 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शिक्षक दिवस के मौके पर शिक्षकों को दिए जाने वाले पुरस्कार की राशि को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 25 हजार से बढ़ाकर 50 हजार किया।दुमका की मयुराक्षी नदी में नहाने के दौरान 6 बच्चे डूबे। 2 के शव निकाले गए। अन्य की तलाश जारी है।
पोते ने मंत्री शविचरण को बर्खास्त करने की मांग की
First Published:06-01-2013 11:15:05 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

फरीदाबाद अधविक्ता एवं श्रम मंत्री शविचरण शर्मा के पौत्र अनूप शर्मा ने गीतिका यौन शोषण एवं आत्महत्या के आरोपी गोपाल कांडा का गुणगान किए जाने पर आने दादा शविचरण लाल शर्मा की कड़े शब्दों में भर्त्सना की है। उन्होंने गीतिका शर्मा को गलत नौकरानी कहने के मामले को समस्त नारी जाति का अपमान बताते हुए राज्यपाल से अपने दादा श्रम मंत्री शविचरण लाल शर्मा को तुरंत मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने तथा 26 जनवरी को राष्ट्रीय ध्वज फहराने की अनुमति नहीं दिए जाने की मांग की है।

उन्होंने यह मांग शनिवार को राज मंदिर होटल में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में की। अनूप शर्मा ने कहा कि उनके दादा श्रम मंत्री शविचरण शर्मा महिलाओं के प्रति मानसिक रूप से भ्रष्ट हैं। इसी के चलते नारी सम्मान की रक्षा के लिए उन्होंने करीब तीन साल पहले अपने दादा की वजह से घर छोड़ दिया था तथा अलग रहने लगे हैं। अनूप शर्मा ने कहा कि ऐसे व्यक्ति को नैतिक रूप से मंत्री पद पर बने रहने का कोई हक नहीं है।

नारी सम्मान के लिए शविचरण शर्मा को 26 जनवरी पर राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराने देना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंत्री की बर्खास्तगी तक उनकी यह मांग जारी रहेगी। अनूप शर्मा ने आशंका व्यक्त की कि हो सकता है कि श्रम मंत्री उनको मरवा दें। श्रम मंत्री से उन्हें अपनी व अपने परिवार की जान का खतरा भी है परंतु फिर भी वह अपनी मांग पर डटे रहेंगे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह उनकी व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, बल्कि नारी सम्मान के लिए उन्होंने यह कदम उठाया है।

उधर, सीनियर डिप्टी मेयर एवं अनूप शर्मा के पिता मुकेश शर्मा का कहना है कि इस मामले में मंत्री पहले ही माफी मांग चुके हैं। फिजूल में इसे तूल दिया जा रहा है।

 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें