रविवार, 30 अगस्त, 2015 | 05:01 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
गैंगरेप मृतका को अशोक चक्र से सम्मानित किया जाए: विजेन्द्र
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-2013 05:41:19 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई ने सामूहिक बलात्कार की शिकार युवती को देश में बहादुरी के सर्वोच्च नागरिक सम्मान अशोक चक्र से सम्मानित किए जाने की मांग की है। भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने इस संबंध में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को एक आज एक पत्र लिखा है जिसमें उनसे आग्रह किया गया है कि सामूहिक गैंगरेप के बाद मृत लड़की को इस वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर बहादुरी के लिए अशोक चक्र दिया जाना चाहिए। उन्होंने पत्र में बलात्कारियों से संघर्ष करने के लिए लड़की की हिम्मत और बहादुरी और उसके बाद जिस तरह से उसने जज्बा दिखाया उसकी सराहना की।
 
गुप्ता ने लिखा है कि लड़की की बहादुरी से पूरे देश को सीख मिली है। प्रदेश अध्यक्ष ने इस संबंध में सुश्री नीरजा भनोट का उल्लेख किया है जो पान एएम एयरलाइसं में फ्लाईट अटेंडेंट थीं और विमान पर सवार यात्रियों को आतंकवादियों द्वारा अपहरण के समय उनकी जान बचाई थी। यह वाक्या पांच सितम्बर 1986 का है। वह यह सम्मान पाने वाली देश की सबसे युवा थी।
 
उन्होंने लिखा है .युवती का मृत शरीर जब सिंगापुर से दिल्ली लाया गया तो उस समय हवाई अड्डे पर उपस्थित चंद लोगों में वह भी शामिल थे। मुझे पूरा विश्वास है कि आप देश की भावनाओं को समझते हुए पीडिता को अशोक चक्र से सम्मानित करेंगे। उल्लेखनीय है कि पैरामेडिकल की 23 वर्षीय छात्रा के साथ 16 दिसम्बर की रात को चलती चार्टर्ड बस में सामूहिक बलात्कार किया गया था। कई दिन तक सफदरजंग अस्पताल में उपचार के बाद उसे इलाज के लिए सिंगापुर ले जाया गया था जहां उसकी मौत हो गई।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingगावस्कर ने पुजारा की तारीफों के पुल बांधे
अपनी अच्छी तकनीक और शांत चित के कारण चेतेश्वर पुजारा क्रीज पर अपने पांव जमाने में माहिर हैं और पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस युवा बल्लेबाज की आज जमकर तारीफ की जिन्होंने अपने नाबाद शतक से भारत को संकट से उबारा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब संता के घर आए डाकू...
आधी रात को संता के घर डाकू आए।
संता को जगाकर पूछा: यह बताओ कि सोना कहां है?
संता (गुस्से से): इतना बड़ा घर है कहीं भी सो जाओ। इतनी छोटी बात के लिए मुझे क्यों जगाया!