रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 02:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
पड़ोसी भी सदमे में, छलकी आंखें
First Published:30-12-12 10:42 PM

 नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता

इस मौत के बाद पड़ोसियों की हालत भी कुछ अच्छी नहीं। पूरे इलाके में मातम पसरा हुआ था और उसकी मौत की सूचना आने के बाद शायद ही किसी पड़ोसी का चूल्हा जला हो। इस सब के बीच कई महिलाएं आंखों में आंसू लिए उसके घर को नहिार रहीं थी। उसके मिलनसार व्यवहार की चर्चा कर फफक रहीं थीं। हालांकि इस दर्दनाक हादसे के बाद किसी की हिम्मत उनके परिजनों से आंखें मिलाने की नहीं हो रही थी।

शनिवार की सुबह मौत की सूचना तड़के ही मुहल्ले में पहुंच गई थी। उसके बाद सभी सड़कों पर उतर आए थे और शव के आने का इंतजार कर रहे थे। सुबह जब अचानक वहां की सुरक्षा बढ़ाई गई तो कई लोग डर भी गए थे, बाद में पुलिस अधिकारियों के समझाने पर उन्हें स्थिति का अंदाजा हुआ। इलाके की कई लड़कियां एक साथ जुटी हुई थीं और मृतिका को इंसाफ दिलाने के लिए आवाज भी बुलंद कर रहीं थीं। उनका कहना था कि दरिंदों को ऐसी सजा मिलनी चाहिए कि फिर कोई ऐसा घृणित कार्य करने की हिम्मत न जुटा पाए।

पड़ोसियों का कहना था कि वारदात के दो दिन बाद ही उन्हें पता लग सका था कि यह हादसा उसी के साथ हुआ है। सब उसके जल्द ठीक होने की दुआ भी मांग रहे थे लेकिर शायद किस्मत को मंजूर नहीं था।
 
 
 
 
टिप्पणियाँ