गुरुवार, 24 अप्रैल, 2014 | 08:51 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    'हिन्दुस्तान' का 'वोट की चोट' कार्यक्रम, धनबाद में कैंडल-मार्च आईपीएल-7 : कोहली, गंभीर आज होंगे आमने-सामने अफ्रीका में ट्रेन दुर्घटना में 60 मरे मतदान लाइव: जमीं पर उतरे फिल्मी दुनिया के सितारे...वोट डाला केजरीवाल के इस्तीफे ने पार्टी की संभावना धूमिल की: सिसोदिया मोदी के पाकिस्तान संबंधी टिप्पणी से उत्साहित हैं पाक उच्चायुक्त आयोग ने आजम खान को फिर भेजा कारण बताओ नोटिस गिरफ्तारी वारंट के बाद राजद सांसद प्रभुनाथ सिंह लापता पीसीएस-14 के 300 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू मोदी रोड शो के बाद करेंगे वाराणसी में नामांकन दाखिल
 
सेना भें भर्ती होकर देश सेवा करना चाहता था गुलवेज
First Published:27-12-12 11:35 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

नई दिल्ली, कार्यालय संवाददाता

बचपन से ही धर्म-कर्म में पूरी आस्था रखने वाला गुलवेज अहमद सेना में भर्ती होकर देश सेवा करना चाहता था लेकिन नियति ने उसे हमसे छीन लिया। गुलवेज के बारे में बात कर भावुक होते हुए उसके छोटे चाचा चांद ने कहा कि वह काफी होनहार था और सेना में भर्ती होता चाहता था। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय पर्वतारोही शिविर में हिस्सा लेने के बाद गुलवेज काफी उत्साहित था। उन्होंने कहा कि बचपन से ही धर्मकर्म में अस्था रखने वाले गुलवेज महज कम उम्र में ही पवित्र कुरान शरीफ को याद कर लिया और हाफिज बन गया था।

कढ़ाई का काम करने वाले हाजी कपिल का 18 वर्षीय बेटा गुलवेज पिछले सात सालों से रमजान के महीने में मस्जिद में रोजा इफ्तार के बाद पढ़ी जाने वाली नमाज (तरावी) पढ़ाता था। उसके चाचा ने बताया कि एनसीसी के इस कैंप को लेकर भी वह काफी उत्साहित था और पढ़ाई में अव्वल आने के कारण उसे कई बार पुरस्कार भी दिए गए। उसकी मौत से उसका परिवार शोक में डूबा हुआ है। बलदेव पार्क के मकान संख्या सी-29, गली संख्या-12, ओल्ड गोविन्दपुरा निवासी हाजी कफिल अपनी पत्नी जहांआरा, बेटा शावेज अहमद, शोएब अहमद, फैसल अहमद व एक बेटी फरीन के साथ रहते हैं।

हाजी कफिल के चार पुत्र व एक पुत्री में दूसरे नंबर का 18 वर्षीय बेटा गुलवेज अहमद हमेशा से देश सेवा करने और सेना में भर्ती होने का सपना देखा करता था। कम उम्र में हाफिज बनने की वजह से हाजी कपिल व उसके परिवार को गुलवेज पर नाज था। इसके पहले भी गुलवेज एनसीसी की ओर से कैम्प में जा चुका है। गुलवेज के मौसा फईमउद्दीन ने बताया कि गुलवेज हरदिल अजीज और होशियार था। वह किसी को भी अपना बना लेता था।

पड़ोसी आदिल, मोहम्मद अयूब, गुड्डू का कहना था कि गुलवेज हरफन मौला शख्स था, गुलवेज को हम कभी भूल नहीं पाएंगे। उसकी कमी हम लोगों को हमेशा खलती रहेगी।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
Image Loadingमतदान लाइव: जमीं पर उतरे फिल्मी दुनिया के सितारे...वोट डाला
लोकसभा चुनाव के छठे दौर में आज 117 सीटों पर मतदान हो रहा है। लोकसभा चुनाव के इस दौर में असम, बिहार, छत्तीसगढ़, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, पुड्डुचेरी, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तरप्रदेश और पश्चिम बंगाल में वोट डाले जा रहे हैं।
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
आंशिक बादलसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 06:47 AM
 : 06:20 PM
 : 68 %
अधिकतम
तापमान
20°
.
|
न्यूनतम
तापमान
13°