रविवार, 25 जनवरी, 2015 | 19:46 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी दोस्ती का असर दोनों देशों के रिश्तों में दिख रहा है: ओबामाओबामा : अकेले में मिलते हैं तो एक दूसरे को समझते हैंएक-दूसरे को जानने की कोशिश की : मोदीमोदी : पर्सनल कमेस्ट्री मायने रखती हैअकेले में जो बात होती है उसे पर्दे में रहने दें : मोदीरक्षा क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर हमारी चर्चा हुई:ओबामाओबामा : मंगलवार को रेडियो पर भारतीय लोगों से बातचीत का इंतजार हैहम परमाणु करार पर अमल की ओर आगे बढ़े :ओबामाओबामा :हम भारत-अमेरिका के रिश्तों को नई ऊंचाई तक ले जाना चाहते हैंहम अपने व्यापारिक रिश्तों को और आगे ले जाएंगे : ओबामाओबामा : चाय पर चर्चा के लिए पीएम मोदी का शुक्रियान्योते के लिए धन्यवाद : ओबामाओबामा ने हिंदी में कहा मेरा प्यार भरा नमस्कारओबामा ने नमस्ते के साथ अपना बयान शुरू कियापर्यावरण के लिए दोनों देश मिलकर काम करेंगे :मोदीआतंकी गुटों पर कार्रवाई को लेकर कोई भेद नहीं रखेंगे :मोदीमोदी: रक्षा के क्षेत्र में, समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में हम सहयोग बढ़ाएंगेपरमाणु करार के व्यवसायिक नतीजे अब दिखेंगे : मोदीमोदी : पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों में गर्मजोशी दिखीअमेरिका सबसे अच्छा दोस्त है :मोदीमैं अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारा न्यौता स्वीकारा। मैं जानता हूं कि दोनों कितने व्यस्त रहते हैं- मोदीमोदी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में ओबामा और मिशेल का स्वागत है। गणतंत्र दिवस पर हमारा महमान बनना खास हैहैदराबाद हाउस में हुई मोदी और ओबामा की मुलाकातओबामा और मोदी देंगे साझा बयानथोड़ी देर में मीडिया के सामने आएंगे ओबामा और मोदी
सेना भें भर्ती होकर देश सेवा करना चाहता था गुलवेज
First Published:27-12-12 11:35 PM

नई दिल्ली, कार्यालय संवाददाता

बचपन से ही धर्म-कर्म में पूरी आस्था रखने वाला गुलवेज अहमद सेना में भर्ती होकर देश सेवा करना चाहता था लेकिन नियति ने उसे हमसे छीन लिया। गुलवेज के बारे में बात कर भावुक होते हुए उसके छोटे चाचा चांद ने कहा कि वह काफी होनहार था और सेना में भर्ती होता चाहता था। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय पर्वतारोही शिविर में हिस्सा लेने के बाद गुलवेज काफी उत्साहित था। उन्होंने कहा कि बचपन से ही धर्मकर्म में अस्था रखने वाले गुलवेज महज कम उम्र में ही पवित्र कुरान शरीफ को याद कर लिया और हाफिज बन गया था।

कढ़ाई का काम करने वाले हाजी कपिल का 18 वर्षीय बेटा गुलवेज पिछले सात सालों से रमजान के महीने में मस्जिद में रोजा इफ्तार के बाद पढ़ी जाने वाली नमाज (तरावी) पढ़ाता था। उसके चाचा ने बताया कि एनसीसी के इस कैंप को लेकर भी वह काफी उत्साहित था और पढ़ाई में अव्वल आने के कारण उसे कई बार पुरस्कार भी दिए गए। उसकी मौत से उसका परिवार शोक में डूबा हुआ है। बलदेव पार्क के मकान संख्या सी-29, गली संख्या-12, ओल्ड गोविन्दपुरा निवासी हाजी कफिल अपनी पत्नी जहांआरा, बेटा शावेज अहमद, शोएब अहमद, फैसल अहमद व एक बेटी फरीन के साथ रहते हैं।

हाजी कफिल के चार पुत्र व एक पुत्री में दूसरे नंबर का 18 वर्षीय बेटा गुलवेज अहमद हमेशा से देश सेवा करने और सेना में भर्ती होने का सपना देखा करता था। कम उम्र में हाफिज बनने की वजह से हाजी कपिल व उसके परिवार को गुलवेज पर नाज था। इसके पहले भी गुलवेज एनसीसी की ओर से कैम्प में जा चुका है। गुलवेज के मौसा फईमउद्दीन ने बताया कि गुलवेज हरदिल अजीज और होशियार था। वह किसी को भी अपना बना लेता था।

पड़ोसी आदिल, मोहम्मद अयूब, गुड्डू का कहना था कि गुलवेज हरफन मौला शख्स था, गुलवेज को हम कभी भूल नहीं पाएंगे। उसकी कमी हम लोगों को हमेशा खलती रहेगी।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड