मंगलवार, 21 अप्रैल, 2015 | 13:49 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हमारी सरकार किसी के खिलाफ जाति, धर्म, रंग, नस्ल के आधार पर विभेद की बात का समर्थन नहीं करती, संविधान सभी नागरिकों को समानता का अधिकार देता है: गृह मंत्री राजनाथ सिंह।
शिकायतकर्ता महिला ने पहले भी लगाए थे गलत आरोप
First Published:27-12-12 11:35 PM

लखनऊ विशेष संवाददाता राज्य मुख्यालय। प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था अरुण कुमार ने कहा है कि दिल्ली के कालका थाने में दुराचार की रिपोर्ट दर्ज कराने वाली युवती पहले भी वर्ष 2010 में दुराचार का आरोप लगा चुकी है। उसके आरोपों की आगरा के सिकंदरा थाने की पुलिस ने जांच की थी और उन्हें गलत पाए जाने पर एफआईआर नहीं दर्ज की गई। पुलिस ने जांच में आरोपों को गलत पाया था। अरुण कुमार ने कहा कि वह महिला द्वारा ताजा आरोपों पर कुछ नहीं कहेंगे।

दिल्ली के कालका थाने की पुलिस वृंदावन आयी है। वह जांच कर रही है। जो भी सही हो, वही करे लेकिन महिला और उसके साथी का वंृदावन निवासी लोगों से संपत्ति का विवाद चल रहा है। यही नहीं, महिला व उसका साथी वर्ष 2009-10 में गैंगस्टर में गिरफ्तार भी किए जा चुके हैं।

 
 
 
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
जरूर पढ़ें
Image Loadingहमें 20 रन और बनाने चाहिये थे: आमरे
दिल्ली डेयरडेविल्स के कोचिंग स्टाफ के सदस्य प्रवीण आमरे ने आईपीएल के मैच में कल की हार के बाद केकेआर के गेंदबाजों को श्रेय देते हुए कहा कि उनकी टीम ने लगभग 20 रन कम बनाए।