मंगलवार, 25 नवम्बर, 2014 | 02:56 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    श्रीनिवासन आईपीएल टीम मालिक और बीसीसीआई अध्यक्ष एकसाथ कैसे: सुप्रीम कोर्ट  झारखंड और जम्मू-कश्मीर में पहले चरण की वोटिंग आज पार्टियों ने वोटरों को लुभाने के लिए किया रेडियो का इस्तेमाल सांसद बनने के बाद छोड़ दिया अभिनय : ईरानी  सरकार और संसद में बैठे लोग मिलकर देश आगे बढाएं :मोदी ग्लोबल वॉर्मिंग से गरीबी की लड़ाई पड़ सकती है कमजोर: विश्व बैंक सोयूज अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना  वरिष्ठ नेता मुरली देवड़ा का निधन, मोदी ने जताया शोक  छह साल बाद पाक के पास होंगे 200 एटमी हथियार अलग विदर्भ के लिए गडकरी ने कांग्रेस से समर्थन मांगा
गैंगरेप के विरोध में लगी जन संसद
First Published:23-12-12 09:39 PMLast Updated:23-12-12 11:11 PM

कग्रेटर नोएडा/वरिष्ठ संवाददाता

दिल्ली में हुई गैंगरेप की घटना का विरोध रविवार को भी जारी रहा। ‘महिला सुरक्षा के सवाल’ विषय पर जन संसद का अयोजन किया गया। जिसमें शहर के बुद्धिजीवियों ने शिरकत की। वहीं हजारों स्कूली बच्चों ने शहर में प्रदर्शन किया। शहर के कई सेक्टरों में मार्च निकाले गए। अब तो किसान संगठन भी इस मुद्दे पर खुलकर साथ आ गए हैं।

जन संसद का अयोजन ‘जन सशक्तिकरण’ संस्था के तत्वावधान में एसेन्ट इंटरनेशनल स्कूल में आयोजित की गई। ‘महिला सुरक्षा के सवाल’ विषय पर संसद लगी। बतौर मुख्य वक्ता प्रोफेसर बिनेश ने कहा कि भारतीय संस्कृति और संस्कार इतने मजबूत हैं कि उनके जरिए ऐसे समाज का विकास किया जा सकता है जो महिलाओं का सम्मान करे। सपा नेता राज कुमार भाटी ने कहा कि जो समाज स्त्री का सम्मान नहीं करता, उसका पतन हो जाता है। कृष्णकांत सिंह, चंद्र शेखर गर्गे, वाईपी सिंह, हरीश्चंद्र गुप्ता, विभा ठाकुर, रीता खारी, श्वेता लोहित, डा.अपर्णा वाजपेयी ने विचार व्यक्त किए।

अखिल भारतीय लोकाधिकार संगठन ने परी चौक पर विरोध प्रकट किया। इस मार्च में महिलाएं और बच्चों बड़ी संख्या में शामिल हुए। संगठन ने ऐसे अपराधों को रोकने के लिए पुलिस-प्रशासन से कठोर कदम उठाने की अपील की। मुख्य रूप से सतीश गुलिया, जिले सिंह, पवन दुआ, जय भगवान, अरुण त्यागी शामिल रहे। दोपहर बाद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी परी चौक तक मार्च निकाला। सेक्टर बीटा टू, सेक्टर एल्फा वन, सेक्टर एल्फा टू, सेक्टर डेल्टा वन के लोगों ने शाम को परी चौक तक रैली निकाली।

गांव रौनीजा में राष्ट्रीय किसान यूनियन ने घटना की निंदा करने के लिए बैठक का आयोजन किया। पीड़ित लड़की के जल्दी स्वस्थ होने की कामना की। संसद और सरकार से ऐसे मामलों में फांसी की सजा मुकर्रर करने की मांग की। राष्ट्रीय अध्यक्ष समवीर फौजी, मेधराज भाटी, मौअज्जम खां, विजय पाल भाटी, चन्दर पहलवान मौजूद थे।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ