गुरुवार, 03 सितम्बर, 2015 | 03:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
सामूहिक दुष्कर्म मामले में छात्र को नहीं मिली जमानत
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:21-12-2012 06:44:29 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली की एक अदालत ने जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में कानून के एक छात्र को जमानत देने से इंकार कर दिया है जिसे एक नाबालिग लड़की को दो महीने से ज्यादा समय तक बंधक बनाकर सामूहिक बलात्कार के आरोप में चार अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था।
 
जिला न्यायाधीश आर के गाबा ने पुलकित चौधरी की जमानत याचिका खारिज कर दी और कहा कि मामले में जांच शुरूआती चरण में है तथा आरोपी जमानत पर रिहा किए जाने का हकदार नहीं है। अदालत ने कहा,  इस चरण में आवेदन को स्वीकार नहीं किया जा सकता, इसलिए इसे खारिज किया जाता है। पुलिस ने अदालत से कहा कि वह मामले की गहन जांच कर रही है और इस संबंध में और गिरफ्तारी होने की उम्मीद है।
    
पुलिस ने चार दिसंबर को पांच युवकों को गिरफ्तार किया था। इनमें तीन कानून के छात्र हैं। 16 वर्षीय पीडि़त की मां ने 15 सितंबर को दक्षिण दिल्ली के डिफेंस कालोनी थाने में शिकायत दर्ज करायी थी। गिरफ्तार सभी पांच आरोपी इस समय तिहाड़ जेल में हैं।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में 22 साल बाद भारत ने टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

मैथ नहीं जानते
टीचर-सोनू, तुम्हारे पापा ने 10 प्रतिशत के सालाना ब्याज पर 5000 रुपए कर्ज लिए। वे एक साल बाद कर्ज वापस करते हैं, बताओ वह कुल कितने पैसे वापस करेंगे?
सोनू-कुछ भी नहीं।
टीचर (गुस्से में)-तुम मैथ नहीं जानते।
सोनू-सर, मैं तो मैथ जानता हूं, पर आप मेरे पिताजी को नहीं जानते