शनिवार, 28 फरवरी, 2015 | 12:21 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
रिटर्न में बतानी होगी विदेश की संपत्तिविदेश में काला धन मिलने पर जुर्माना 300 फीसद के हिसाब सेपंजाब, तमिलनाडु, हिमाचल में एम्स का एलान54 फीसदी युवा आबादी के लिए दक्षता योजना की ज़रूरतकैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देना हैगुजरात में फाइनेंशियल सेंटर तैयाररक्षा में पहले ही विदेशी निवेश की इजाजतइनकम टैक्स में कोई बदलाव नहींरोजगार बढ़ाने के लिए कार्पोरेट टैक्स का रेट घटेगाटैक्स में कोई नया फायदा नहींइनकम टैक्स का स्लैब पुराना वाला ही रहेगारोड और रेल के लिए टैक्स फ्री बॉन्डपीएम कृषि सिंचाई योजना में 3 हजार करोड़ और देंगेज्यादा टैक्स मिलेगा तो मनरेगा को 5 हजार करोड़ और देंगेअल्पसंख्यकों के लिए नई मंजिल योजना5 नई अल्ट्रा मेगा बिजली परियोजना का प्रस्तावई बिज पोर्टल की शुरुआत, परमिशन के लिए भटकना नहीं पड़ेगादो लाख का दुर्घटना बीमा देगी सरकारअटल पेंशन योजना का ऐलानप्रधानमंत्री बीमा योजना शुरु करेंगेअटल पेंशन योजना: एक हजार सरकार देगी, एक हजार लोग देंगेबिना दावे के EPF और PPF के पैसे से गरीबों के लिए योजनागरीबी रेखा से नीचे के बुजुर्गों के लिए पीएम बीमा योजनामुद्रा के लिए 20 हजार करोड़ की निधिसब्सिडी लीक को कम करेंगेअगले साल सातवां वेतन आयोगछोटे उद्योगों के लिए मुद्रा बैंकमनरेगा के लिए 34699 करोड़ग्रामीण विकास फंड के लिए 25 हजार करोड़मुझे उम्मीद है कि अमीर लोग गैर सब्सिडी छोड़ेंगेजरूरतमंदों के खाते में सब्सिडी सीधे पहुंच रही हैसब्सिडी जरूरतमंदों तक पहुंचाने पर जोरमहंगाई दर 5.1 फीसदी है: जेटलीवित्तीय घाटा 3 प्रतिशत से कम करेंगे: जेटलीइंफ्रास्ट्रक्चर में निवेश की कमी: जेटलीकृषि में पैदावार बढ़ानी है: जेटलीसरकारी घाटे को काबू में करना है: जेटली20 हजार गांवों तक बिजली पहुंचाएंगे2022 तक बेरोजगारी को खत्म कर देंगे2022 तक सभी के लिए घर का लक्ष्य: जेटलीहमने महंगाई पर काबू किया है: जेटलीजनधन आधार मोबाइल का इस्तेमाल करेंगेसब्सिडी के लिए JAM का इस्तेमालदुनिया में मंदी का माहौल है: जेटलीलोगों की जिंदगी बेहतर करना है लक्ष्य: जेटलीराज्य बराबर के भागीदार होंगे: जेटलीजेटली ने पुरानी सरकार पर निशाना साधालोकसभा की कार्रवाई शुरुकैबिनेट की बैठक में बजट को मिली मंजूरी
पांच साल से चल रहा दुष्कर्म का केस
First Published:19-12-12 11:45 PM

गाजियाबाद। वरिष्ठ संवाददाता

दुष्कर्म के केस में यदि सुनवाई तेजी से हो तो पीड़ित को इंसाफ भी जल्दी मिले, लेकिन इंसाफ की जद्दोजहद में कई वर्ष बीत जाते हैं। कानून के जानकारों का मानना है कि ऐसे मामलों में क्योंकि कोई गवाह मिलना मुश्किल होता है, इसलिए ज्यादा दिक्कत आती है। अधविक्ता सिंधुप्रभा झा के मुताबिक लोनी थानाक्षेत्र में वर्ष 2005 में हुए दुष्कर्म के एक मामले की सुनवाई कई वर्षो से चल रही है। गवाह मिलना मुश्किल है, इसलिए इंसाफ में देरी की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं।

17 वर्षीय किशोरी को घर में अकेला पाकर पड़ाेस के एक लड़के ने उससे दुष्कर्म किया था। युवती अपने लिए इंसाफ मांग रही है। आरोपी जमानत पर बाहर है। पीड़िता ने अभी तक शादी नहीं की है। वह अपने साथ हुए अत्याचार के आरोपियों की सजा की मांग कर रही है। अधविक्ता का कहना है कि अक्सर गवाहों की अनुपस्थिति में अभियुक्त बरी हो जाते हैं। कोर्ट में चल रहे केसों पर ही नजर डालें तो इस साल 30 सितंबर तक दुष्कर्म के 90 मामलों में आरोपियों को कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में बरी किया है।

दुष्कर्म के केस में निर्णय बेहद पेचीदा माना जाता है क्योंकि सिर्फ महिला की गवाही ही आरोपी के खिलाफ होती है। हालांकि यह सजा दिलाने के लिए काफी है, लेकिन कई बार मेडिकल रिपोर्ट भी आरोपी को बचाने में काफी रहती है। सबसे अधिक परेशानी दुष्कर्म के प्रयास मामले में होती है। ं।

 
 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड