गुरुवार, 03 सितम्बर, 2015 | 22:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
सरकार ने ग्रीनपीस इंडिया का एफसीआरए लाइसेंस रद्द किया: सूत्र
डकैती के विरोध में हत्या
First Published:18-12-2012 01:10:08 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दादरी। हमारे संवाददाता। हथियारबंद बदमाशों ने कस्बे में रविवार रात दो घरों में धावा बोलकर डकैती को अंजाम दिया। डकैत एक घर में घुसे तो परिवार के मुखिया ने विरोध किया। डकैतों ने उसके सिर में लोहे की छड़ मारकर उसे मौत के घाट उतार दिया।

उसके बाद डकैत दूसरे घर से लाखों रुपये नगदी और गहने ले गए। साथ ही डकैतों ने आस-पास के घरों में भी लूटपाट का प्रयास किया लेकिन चीख-पुकार सुनकर घरों में सो रहे लोग बाहर निकले तो बदमाश खेतों की तरफ भाग गए। रेलवे रोड स्थित शवि वाटिका कॉलोनी में जगदीश का परिवार रहता है। रविवार की रात घर पर जगदीश अपनी पत्नी वमिला और बेटे बलवंत के साथ सोये हुए थे। रात में करीब एक बजे आधा दर्जन बदमाशों ने घर पर हमला बोल दिया।

आवाज सुनकर घर का मुखिया जगदीश बाहर आया तो दरवाजे पर खड़े बदमाशों ने उसके साथ मारपीट शुरू कर दी और उसके सिर पर लोहे की छड़ से वार कर दिया। सिर में गहरी चोट लगने की वजह से जगदीश (62 वर्ष) की मौके पर ही मौत हो गई, इसके बाद डकैत अतरु वाटिका कॉलोनी में वेदवीर के घर में जा घुसे। बदमाशों ने घर में घुस कर लूटपाट शुरू कर दी। महिलाओं के कानों से कुंडल और सोने के जेवरात लूट लिए।

विरोध करने पर लाठी-डंडों से मारपीट की। करीब आधा घंटे तक बदमाशों ने घर में डकैती डाली। बदमाशों ने वहां से लाखों रुपये की नगदी और गहने लूटे। मारपीट के दौरान परिवार के वेदवीर, भगवती पत्नी वेदवीर, बहन वेदी और बेटी पिंकी को गहरी चोटें आईं हैं। घायलों को नवीन अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसके बाद बदमाश दूसरे घरों में डकैती डालने गए तो वहां चीख-पुकार मच गई, जिसको सुनकर घरों में सो रहे लोग बाहर निकले तो बदमाश खेतों की तरफ फरार हो गए।

---मौके पर नहीं पहुंची पुलिसघटना की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस मामले को हल्के में लेती रही। किसी ने मौके पर पहुंचना भी मुनासबि नहीं समझा, इससे लोगों में आक्रोश भर गया। नाराज लोगों ने रेलवे रोड जाम कर दिया। करीब दो घंटे तक भीड़ रोड पर बैठी रही। रोड पर वाहनों की लंबी लाइन लग गईं। गुस्साई भीड़ हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग कर रही थी। दोपहर में एसपी देहात अशोक कुमार दादरी पहुंचे। हमलावरों की गिरफ्तारी का आश्वासन देकर जाम खुलवाया।

पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पीड़ितों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया है। ---वारदातों से सहमे लोग, पुलिस नाकामरविवार को दिन छिपते ही दादरी में खल व्यापारी से 1.58 लाख रुपये लूट लिए थे। लुटेरों की संख्या पांच-छह बताई गई थी। वारदात को अंजाम देकर पैदल ही निकल गए थे। उसके बाद रात भर हथियारबंद बदमाश डकैती और हत्या की वारदातों को अंजाम देते रहे। पुलिस अभी तक कोई सुराग नहीं लगा सकी है।

लोगों में पुलिस के प्रति गहरा रोष है। पुलिस पर लापरवाही का आरोप है। हर घटना के बाद लोग रोड और हाइवे जाम करते हैं। पुलिस आश्वासन देकर पल्ला झाड़ लेती है। ---रविवार को किया था गृह प्रवेशजगदीश दादरी के सरकारी अस्पताल में वार्ड ब्वाय थे। दो साल पहले इस पद से रिटायर हो गए थे लेकिन तब से वह अस्पताल के सरकारी आवास में ही रह रहे थे। रविवार को उन्होंने शवि वाटिका में बनाए नए मकान में गृह प्रवेश किया था।

उसी रात घर में बदमाश घुस आए। जगदीश को मौत के घाट उतार दिया। ---दूसरे घर में पुलिस के बारे में पूछाजगदीश के घर वारदात को अंजाम देने के बाद डकैत वेदवीर के घर पहुंचे। दरवाजा खुलवाकर दो लोगों ने पूछा कि क्या पुलिस की जीप इधर आई थी। घरवालों ने मना कर दिया। पांच मिनट बाद ही सारे डकैत हथियार लेकर जबरन घर में घुस गए और डकैती को अंजाम दिया। ---‘पुलिस को त्वरित कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है।

दोनों वारदातों को अंजाम देने वाले डकैतों की पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है। ’अशोक कुमार, एसपी देहात।

 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingसंगाकारा का ट्विटर हुआ हैक, आपत्तिजनक ट्वीट के लिए मांगी माफी
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर को हाल ही में अलविदा कहने वाले श्रीलंका के दिग्गज विकेटकीपर/बल्लेबाज कुमार संगाकारा ने बुधवार को कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया था।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

जब संता गया बैंक लूटने...
संता बैंक में डकैती डालने पहुंचा मगर रिवॉलवर घर पर ही भूल गया...
मगर बैंक फिर भी लूट लाया बताओ कैसे?
क्योंकि बैंक मैनेजर बंता था...
बंता: (संता से बोला) कोई बात नहीं...पैसे ले जाओ रिवॉलवर कल दिखा जाना!!